Pankaj Ramendu

स्टेन ली और कॉमिक्स की दुनिया: सुपर हीरो जिनसे पढ़ना सीखा...

स्टेन ली और कॉमिक्स की दुनिया: सुपर हीरो जिनसे पढ़ना सीखा...

सन नब्बे की बात है. सुबह के कोई 2 बज रहे होंगे. मैं अपनी पढ़ाई में लगा हुआ था. अगले दिन से पांचवी की परीक्षा शुरू होने वाली थी. पिताजी की रात में जगने की आदत थी, तो वो आदत हमारे अंदर भी आ गई.

Pollution : खुद को बचाइए, धरती कहीं नहीं जा रही...

Pollution : खुद को बचाइए, धरती कहीं नहीं जा रही...

फिल्म 'स्वदेश' का एक सीन है- किसी कार्यक्रम के दौरान लाइट चली जाती है. पूरा गांव अंधेरे में डूब जाता है. गांववाले मिलकर भजन गाने लगते हैं.

सबरीमाला विवाद: जिस मंदिर के कपाट बंद हों, उसमें जाना ही क्यों

सबरीमाला विवाद: जिस मंदिर के कपाट बंद हों, उसमें जाना ही क्यों

एक गांव में या शहर में एक आदमी रहता था. धार्मिक था, संवेदनशील था. वो जहां रहता था, उस गांव में एक मंदिर था. अब मंदिर था, तो मंदिर के चौकीदार भी थे.

स्वामी साणंद जैसे समर्पित लोगों का बलिदान ज़ाया नहीं जाना चाहिए

स्वामी साणंद जैसे समर्पित लोगों का बलिदान ज़ाया नहीं जाना चाहिए

पिछले महीने के आखिरी सप्ताह में ही उनसे मिलना हुआ था. तब इस बात की उम्मीद भी नहीं थी कि ये सब इतना जल्दी हो जाएगा. जल्दी वैसे नहीं, क्योंकि पिछले 112 दिनों से वो भूख हड़ताल पर बैठे थे.

‘बधाई हो गणेश हुआ है’

‘बधाई हो गणेश हुआ है’

27 दिसंबर 2014, रात का वक्त था. सर्दी अपने पूरे उफान पर थी. सर्दी बीते पूरे मौसम की कसर निकाल रही थी. एम्स की चार दीवारियों के अंदर रिस-रिसकर हवा घुस रही थी. जो हाड़ तक कंपा दे रही थी.

स्वार्थ के आगे बौनी है पर्यावरण की चिंता

स्वार्थ के आगे बौनी है पर्यावरण की चिंता

गेम ऑफ थ्रॉन्स में एक किरदार है टायरिन लेनिन्सटर. वो एक बौना है, लेकिन सबसे ताकतवर पिता की औलाद है, लेकिन उसके पिताजी उसे अपने खानदान पर एक कलंक मानते हैं.

शिक्षक वो जो ‘कहे ऐसा भी हो सकता है’

शिक्षक वो जो ‘कहे ऐसा भी हो सकता है’

स्कूल में नर्सरी की क्लास चल रही थी. व्यस्त मैडम ने सभी बच्चों को एक शीट और कुछ रंग दिए. शीट पर चांद का चित्र था. सभी बच्चों से कहा गया कि इसमें रंग भरें. बच्चों ने रंग भरना शुरू किया.

खुशियों का पीरियड

खुशियों का पीरियड

अस्सी के दशक में पैदा होने वाले बच्चों को अपने जीवन का एक अनुभव ज़रूर याद होगा. नवीं कक्षा में विज्ञान की पुस्तक में एक अध्याय था. मानव प्रजनन अंग औऱ उनके कार्य.

आजादी के 71 साल: 'खड़िया के घेरे' में हैं इंसान की आजादी

आजादी के 71 साल: 'खड़िया के घेरे' में हैं इंसान की आजादी

'गेम ऑफ थ्रॉन्स' में लेडी टार्गेरियन जब तीन देशों के लोगों को गुलामी से मुक्ति दिला देती है और उनके मालिकों को सजा दे देती है.

Opinion: बालिका गृह की लड़कियो, तुम्हारा 'वजूद' ही नहीं है...

Opinion: बालिका गृह की लड़कियो, तुम्हारा 'वजूद' ही नहीं है...

'गेम ऑफ थ्रोन्स' में एक किरदार है पीटर बेयलिश उर्फ लिटिलफिंगर.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close