Satyendra Singh

तीसरे मोर्चे की नेता बनने की तैयारी में मायावती

तीसरे मोर्चे की नेता बनने की तैयारी में मायावती

बीएसपी के बाद अब सपा का भी छत्तीसगढ़ और राजस्थान विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं हो सका.

#Gandhi150: गांधी के समाजवाद को किसने लगाया पलीता?

#Gandhi150: गांधी के समाजवाद को किसने लगाया पलीता?

मार्क्सवादी इतिहासकार रजनी पाम दत्त ने महात्मा गांधी को बुर्जुआ वर्ग का प्रतिनिधि बताया था. आज भी गांधी को पूंजीपतियों का प्रतिनिधि बताने वाले लोगों की कमी नहीं है.

छत्‍तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बसपा ने कांग्रेस को दिया झटका

छत्‍तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बसपा ने कांग्रेस को दिया झटका

जब कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में एचडी कुमारस्वामी के शपथ-ग्रहण समारोह के दौरान

दलित राजनीति में क्या होगी चंद्रशेखर की बिसात

दलित राजनीति में क्या होगी चंद्रशेखर की बिसात

अनुसूचित जाति (एससी) को सम्मानजनक स्थान दिलाने के लिए डॉ.

अगड़े और दलितों के झगड़े में कहीं केंद्र को न हो जाए नुकसान

अगड़े और दलितों के झगड़े में कहीं केंद्र को न हो जाए नुकसान

एक अप्रत्याशित कदम के तहत अगड़ी जातियां अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निवारण) संशोधन अधिनियम, 2018 के खिलाफ सड़क

इमरान खान की सीमाएं

इमरान खान की सीमाएं

कहां देश को पूर्व क्रिकेटर और अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की संभावित भारत नीति पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए था, लेकिन देश पूर्व क्रिकेटर और अब पंजाब में कांग्रेसी सरकार के मंत्री नवजोत स

कर्नाटक में कसौटी पर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन

कर्नाटक में कसौटी पर कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन

कर्नाटक में अंततः कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार बन गई. गठबंधन की ओर से एचडी कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली है.

Opinion : कर्नाटक चुनाव- लिंगायत का सवाल अभी जिंदा है

Opinion : कर्नाटक चुनाव- लिंगायत का सवाल अभी जिंदा है

‘अगर कांग्रेस यह सोचती है कि इससे (लिंगायत प्रकरण से) उसे आम चुनावों में

स्वच्छ भारत अभियानः अब साफ-सुथरे होने लगे गांवों में घुसने के रास्ते

स्वच्छ भारत अभियानः अब साफ-सुथरे होने लगे गांवों में घुसने के रास्ते

सातो अवंती बिहार के कैमूर जिले का एक प्रतिष्ठित गांव है. कभी वहां गांव में घुसने के रास्ते गंदे होते थे. शौचालय के अभाव में अधिकतर महिलाएं और बच्चे इन रास्तों पर शौच किया करते थे.

मोदी-शी बैठकः भू-राजनैतिक परिस्थितियों का दबाव

मोदी-शी बैठकः भू-राजनैतिक परिस्थितियों का दबाव

आगामी जून महीने में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चीन जाना था, लेकिन उसके पहले अप्रैल माह में ही वे राष्ट्रपति शी जिनपिंग से अनौपचारिक मुलाकात के लिए वुहान पहुंच गए.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close