Suvigya Jain

Analysis : विदेशी निवेश के लिए सरकार की नई कवायद से जुड़े कुछ तथ्य

Analysis : विदेशी निवेश के लिए सरकार की नई कवायद से जुड़े कुछ तथ्य

विदेशी व्यापारियों के लिए भारत में निवेश करना और आकर्षक बना दिया गया

देश की पांच बड़ी संस्थाओं के लिए कैसा रहा साल 2017

देश की पांच बड़ी संस्थाओं के लिए कैसा रहा साल 2017

साल के आखिरी हफ़्ते में पूरे साल की समीक्षा का रिवाज़ है. अलग-अलग क्षेत्रों में सालभर की गतिविधियों को याद करते हुए 'ईयरएंडर' लिखे जाते हैं.

लोकतांत्रिक चुनाव में व्यापार का पहलू

लोकतांत्रिक चुनाव में व्यापार का पहलू

अब तक यह नहीं समझा जा सका है कि चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों यानी ओपिनियन पोल, मतदान के फौरन बाद सर्वेक्षण यानी एग्ज़िट पोल और यहां तक कि वोटों की गिनती के दौरान पल-पल नतीजों के रुझान बताने के कितने मकसद

Analysis : गुजरात चुनाव में क्या सचमुच पहले से बेहतर है कांग्रेस का प्रदर्शन?

Analysis : गुजरात चुनाव में क्या सचमुच पहले से बेहतर है कांग्रेस का प्रदर्शन?

गुजरात के नतीजों को लेकर यह संभावना बना दी गई थी कि भाजपा का धूम-धड़ाके से जीतना तय है. खुद भाजपा का आकलन यह था कि 150 सीटें जीतेगी. इससे यह दावा भी बनता था कि कांग्रेस 35 सीटों पर सिमट जाएगी.

निर्भया की याद में : महिला सुरक्षा क्या सिर्फ कानून से संभव है?

निर्भया की याद में : महिला सुरक्षा क्या सिर्फ कानून से संभव है?

देश में अब जब भी महिला सुरक्षा को लेकर बातचीत होती है, तो दिल्ली के निर्भया केस का जिक्र जरूर आता है

गुजरात चुनाव के बाद आगे क्या?

गुजरात चुनाव के बाद आगे क्या?

गुजरात चुनाव निपटा ही समझिए. उसके बाद देश में क्या काम चलेगा.

GDP में वृद्धि आखिर किसकी वृद्धि है, कितना विश्वसनीय है यह पैमाना!

GDP में वृद्धि आखिर किसकी वृद्धि है, कितना विश्वसनीय है यह पैमाना!

दूसरी तिमाही की जीडीपी का आंकड़ा आ गया है. कई तिमाहियों से जीडीपी की दर घट रही थी.

'पद्मावती' के बहाने पनपते ढेरों सवाल

'पद्मावती' के बहाने पनपते ढेरों सवाल

पद्मावती का किस्सा उलझता जा रहा है. फिल्म की बात है. इस तरह यह कथा साहित्य का मामला है. लेकिन इस फिल्मी कथा में इतिहास के पात्र हैं सो इतिहास की बात भी होने लगी है.

केजरीवाल के 5 साल और 6 सवाल...

केजरीवाल के 5 साल और 6 सवाल...

आम आदमी पार्टी पांच साल की हो गई. लगभग इतनी ही उम्र राजनीति में केजरीवाल की भी हुई. वैसे किसी राजनीतिक दल के लिए पांच साल कुछ नहीं होते. हालांकि एक क्षेत्रीय दल के रूप में इतने कम भी नहीं होते.

स्मॉग : स्वच्छता अभियान की समीक्षा की दरकार

स्मॉग : स्वच्छता अभियान की समीक्षा की दरकार

देश में जब से नई सरकार बनी है उसने नए नए काम करके आजमाएं. कालाधन, स्मार्ट सिटी, स्टार्टअप, मेक इन इंडिया, सबको पक्के मकान, स्वच्छ मारत, नोटबंदी, जीएसटी वगैरह वगैरह.