जश्न-ए-रेख्ता 2018: उर्दू में रामलीला का होगा मंचन, मोरारी बापू करेंगे उद्घाटन

‘जश्न-ए-रेख्ता 2018’ का आगाज 14 दिसंबर को होगा और महिला मुशायरा इसका खास आकर्षण होगा. 

जश्न-ए-रेख्ता 2018: उर्दू में रामलीला का होगा मंचन, मोरारी बापू करेंगे उद्घाटन
रामचरितमानस के प्रख्यात कथावाचक मोरारी बापू .(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: ‘जश्न-ए-रेख्ता 2018’ का आगाज 14 दिसंबर को होगा और महिला मुशायरा इसका खास आकर्षण होगा. रेख्ता फाउंडेशन की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, दर्शकों के लिये एक और खास कार्यक्रम उर्दू में रामलीला का आयोजन होगा. ‘राम कहानी उर्दू वाली’ नाक की यह रामलीला ‘ श्री श्रद्धा रामलीला ग्रुप’ ने तैयार की है. रामचरितमानस के प्रख्यात कथावाचक मोरारी बापू इस कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे.  इसके बाद वडाली भाइयों - पूरन सिंह वडाली और लखविदंर वडाली की कव्वाली प्रस्तुति होगी. तीन दिन के इस महोत्सव में गजलें, सूफी संगीत, कव्वाली, दास्तानगोई, पैनल चर्चा, शख्सियतों से बातचीत और फिल्मों के प्रदर्शन इत्यादि के मार्फत उर्दू के विविध पहलुओं और विरासत को दिखाया जायेगा.

जाने माने पाकिस्तानी लेखक इंतजार हुसैन, फैज अहमद फैज और भारत के रहस्यवादी कवि कबीर पर सत्रों का आयोजन होगा. जश्न-ए-रेख्ता का समापन 16 दिसंबर को नूरन बहनों की रूहानी अदायगी से होगा. शम्सुर रहमान फारुकी, गोपी चंद नारंग, जावेद अख्तर, शबाना आजमी, विशाल भारद्वाज, जावेद जाफरी, मालिनी अवस्थी, वसीम बरेलवी, कुमार विश्वास, आसिफ शेख, श्रुति पाठक, महमूद फारुकी, उस्ताद इकबाल अहमद खान (दिल्ली घराना के खलीफा), गायत्री अशोकन और सोनम कालरा जैसी सिनेमा एवं साहित्य की दुनिया की नामचीन शख्सियतें महोत्सव में शिरकत करेंगी.

‘ऐवान-ए-जायका’ में खाने के शौकीन लोग ठेठ अवधी, मुगलई, हैदराबादी, अफगान, बिहारी, कश्मीरी मिजाज के लजीज खानों और पुरानी दिल्ली के मशहूर स्ट्रीट फूड का जायका ले सकेंगे. रेख्ता फाउंडेशन के संस्थापक संजीव सराफ ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि किसी समाज के फलने-फूलने, भाषा के जरिये सोच की अभिव्यक्ति बेहद अहम है और अगर कोई भाषा जो बड़े प्यार से लोगों के दिलों के तारों को झंकृत करती है वह उर्दू है. ’’ सरफ ने कहा, ‘‘जश्न-ए-रेख्ता 2018 का मकसद विभेदों को पाटना और लोगों को एक-दूसरे और भाषा से करीब लाना है. ’’ महोत्सव का आयोजन इंडिया गेट के पास मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में होगा. 

इनपुट भाषा से भी 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close