दिल्ली, चेन्नई में कार्ति चिदंबरम के परिसरों पर ईडी की छापेमारी

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम के कई परिसरों पर छापेमारी की. यह छापेमारी एयरसेल- मैक्सिस मामले में मनी लांड्रिंग जांच के सिलसिले में की गई है.

दिल्ली, चेन्नई में कार्ति चिदंबरम के परिसरों पर ईडी की छापेमारी

नई दिल्ली : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम के कई परिसरों पर छापेमारी की. यह छापेमारी एयरसेल- मैक्सिस मामले में मनी लांड्रिंग जांच के सिलसिले में की गई है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि शनिवार सुबह से ही कार्ति के दिल्ली और चेन्नई परिसरों पर छापेमारी चल रही है. केंद्रीय जांच एजेंसी ने पिछले साल एक दिसंबर को इसी मामले में कार्ति के एक रिश्तेदार और अन्य के परिसरों पर छापेमारी की थी. ईडी का यह मामला 2006 में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम द्वारा दी गई विदेशी निवेश संवर्द्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी से संबंधित है.

कार्ति ने गुड़गांव में एक संपत्ति बेच दी
एजेंसी ने कहा था कि वह तत्कालीन वित्त मंत्री द्वारा दी गई एफआईपीबी मंजूरी की परिस्थितियों की जांच कर रही है. ईडी का यह भी आरोप है कि कार्ति ने गुड़गांव में एक संपत्ति बेच दी है. यह संपत्ति एक बहुराष्ट्रीय कंपनी को किराये पर दी गई थी. इस कंपनी को 2013 में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की मंजूरी मिली थी.

यह भी पढ़ें : सुप्रीम कोर्ट ने दिए संकेत, कार्ति चिदंबरम को मिलेगी विदेश जाने की इजाजत

कार्ति ने कुछ बैंक खाते बंद कर दिए
यह भी आरोप है कि मनी लांड्रिंग रोधक कानून (पीएमएलए) के तहत कुर्की की प्रक्रिया से बचने के लिए कार्ति ने कुछ बैंक खाते बंद कर दिए हैं और कुछ अन्य खातों को बंद करने का प्रयास किया है. एजेंसी का आरोप है कि एयरसेल मैक्सिस एफडीआई मामले को मार्च, 2006 में तत्कालीन वित्त मंत्री ने एफआईपीबी की मंजूरी दी थी.

यह भी पढ़ें : आईएनएक्स मीडिया मामला : कार्ति चिदंबरम को नए सिरे से ED ने भेजा समन

हालांकि, वह सिर्फ 600 करोड़ रुपए तक के प्रस्तावों को ही मंजूरी देने के सक्षम थे. इससे अधिक राशि के मामले में मंत्रिमंडल की आर्थिक मामलों की समिति (सीसीईए) की मंजूरी जरूरी थी. इस मामले में 80 करोड़ डॉलर या 3,500 करोड़ रुपये के एफडीआई की मंजूरी दी गई. इसमें सीसीईए की मंजूरी नहीं ली गई.

बिजनेस से जुड़ी अन्य खबरों के लिए पढ़ें

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close