बिहार में तेजी से बढ़ी स्कूटरों की डिमांड, क्या है कारण

बिहार में ऑमेटिक स्कूटरों की मांग 41 फीसदी की दर से बढ़ रही है जो मोटरसाइकिल की तुलना में दोगुनी है और होंडा बिहार में स्कूटरीकरण में सबसे आगे है.

बिहार में तेजी से बढ़ी स्कूटरों की डिमांड, क्या है कारण
Play

पटना : बिहार में ऑमेटिक स्कूटरों की मांग 41 फीसदी की दर से बढ़ रही है जो मोटरसाइकिल की तुलना में दोगुनी है और होंडा बिहार में स्कूटरीकरण में सबसे आगे है. होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (सेल्स एंड मार्केटिंग) यदविंदर सिंह गुलेरिया ने बताया कि पिछले छह साल में भारत में जहां स्कूटर की बिक्री में 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है वहीं बिहार में ऑटोमेटिक स्कूटरों की मांग 41 प्रतिशत की दर से बढ़ रही है, जो मोटरसाइकल की तुलना में दोगुनी है. उन्होंने कहा कि बिहार में अब स्कूटर का हर दूसरा उपभोक्ता होंडा का स्कूटर खरीद रहा है.

गुलेरिया ने कहा कि रिकॉर्ड बिक्री के चलते होंडा ने बिहार में सबसे ज्यादा बाजार हिस्सेदारी हासिल की है. होंडा ने अप्रैल-जून 2017-18 के दौरान 38,023 इकाइयां बेचकर बिहार में अबतक की अधिकतम बिक्री का रिकार्ड बनाया है. पिछले 6 साल में होंडा के दोपहिया वाहनों की मांग 4.5 गुना बढ़ गई है.

यह भी पढ़ें : सुजुकी मोटरसाइकिल ने लॉन्च किए दो नए सुपरबाइक GSX-R1000, GSX-R1000R

उन्होंने कहा कि बिहार होंडा के लिए भारत का सबसे तेजी से विकसित होता राज्य है. छह साल में होंडा की दोपहिया 33 प्रतिशत बढ़ी है जो बिहार में दोपहिया वाहन उद्योग के 18 फीसदी विकास से लगभग दोगुनी है. गुलेरिया ने कहा कि बिहार में स्कूटरों की बढ़ती मांग राज्य के विकास की सूचक है जहां लोग अपनी सुविधा को ध्यान में रखते हुए आने-जाने के लिए स्कूटर को प्राथमिक विकल्प के रूप में चुन रहे हैं.

यह भी पढ़ें : स्कूटर और बाइकों पर भारी डिस्काउंट, जानिए! किस कंपनी का क्या है ऑफर

खास बात तो यह है भारत में मोटरसाइकलों के दूसरे सबसे बड़े बाजार बिहार में अब लोग स्कूटर को ज्यादा पसंद कर रहे हैं. उन्होंने बिहार में स्कूटरीकरण पर चर्चा करते हुए कहा बिहार में होंडा की प्रगति का श्रेय ब्रांड के आक्रामक विस्तार और उपभोक्ताओं के बढ़ते भरोसे को दिया जा सकता है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close