आतंक की नई साजिश

आतंकियों की एक साजिश से सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ गई है। इस साजिश का ताना-बाना बुना है इंडियन मुजाहिदीन ने और उनके निशाने पर हैं भारतीय हवाई जहाज। एक बार फिर इंडियन एयर रूट्स पर टिक गई है देश के दुश्मनों की नजर।

कत्ल की गुत्थी : कुछ सुलझी तो कुछ अनसुलझी

साल 2013 में हत्या की वारदातों से दिल्ली दहल उठी। इस साल कई हाई प्रोफाइल मर्डर केस ने दिल्ली पुलिस की नींदें उड़ा दी। आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने में दिल्ली पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। ज्यादातर अपराधो में अपनों की भूमिका सामने आयी। आंकड़ों के लिहाज से साल 2013 दिल्ली पुलिस के लिए थोड़ी राहत की खबर लेकर आयी।

मेरठ विवि में तमंचे पर डिस्को

यूपी के चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी में हुए तमंचा डांस में कानून के छात्रों ने पहले तो जमकर उत्पात मचाया, मौज-मस्ती के नाम पर कानून का मखौल उड़ाया और अब इन्हीं लोगों को बचाने की कोशिश में लग गई है यूपी पुलिस।

एक मिनट में 60 मौतें

एक ऐसा हथियार निर्माता जिसने एक रायफल का डिजाइन तो तैयार किया था सेना के लिए लेकिन आज दुनियाभर में इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल आतंकी वारदातों में हो रहा है।

वर्दी वाले दरिंदे

पांच पुलिस वाले एक नाबालिग को तीन माह तक हवस का शिकार बनाते रहे। परेशान नाबालिग ने आत्महत्या करने की ठान ली लेकिन पड़ोस की महिला ने उसे रोका और उसके भाई को सूचित किया जिसने इलाके के पार्षद को बताया और मामला पुलिस तक पहुंचा जहां पांच पुलिस वालों पर मामला दर्ज कर लिया गया।

तंत्र-मंत्र और मासूम का मर्डर

सात साल के साहिल के कत्ल से उसके घरवाले भी हैरान हैं ।गांव में उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं लेकिन साहिल की लाश जिस हालात में पड़ी मिली उसकी वजह से आशंका जताई जा रही है कि तंत्र साधना के लिए उसकी बलि दी गई। पुलिस फिलहाल इस संबंध में कुछ भी कहने से बच रही है। जम्मू के सतवारी इलाके में मातम पसरा हुआ है।

सात फेरे 70 जख्‍म

शादी के बाद एक लड़की के साथ जो हुआ उसे सुनकर आपकी भी रूह कांप उठेगी। इस लड़की की शादी गुड़गांव की एक मल्टीनेशनल कंपनी में प्रोजेक्ट मैनेजर के पद पर काम करने वाले दिल्ली के पुनीत भारद्वाज के साथ 29 नवंबर को हुई थी। शादी के बाद दोनों हनीमून के लिए थाइलैंड के लिए निकले, लेकिन घर से निकलते ही पुनीत का व्यवहार पूरी तरह बदल गया।

नारायण साईं का तिलिस्मी मायाजाल

रेप के आरोपी और 58 दिन तक फरार रहने वाले नारायण साईं के तिलिस्म के राज़ का हो गया है पर्दाफ़ाश। नारायण के पूरे तिलिस्मी मायाजाल का अब होने लगा है खुलासा।

नारायण साईं पर नकेल

नारायण साईं पर आखिर कस ही गया कानून का शिकंजा। 58 दिन तक पुलिस के साथ लुका-छिपी का खेल खेलने के बाद उसकी भागदौड़ सलाखों के पीछे पहुंच कर खत्म हो गई।अपने शातिर दिमाग और मददगारों की फौज की बदौलत नारायण ने बचने की पूरी कोशिश की लेकिन कानून के लंबे हाथ से वो ज्यादा दिन तक बच नहीं पाया।

नारायण साईं के कई डुप्‍लीकेट

जब तक उसके चेहरे पर झूठ और मक्कारी का नकाब था तब तक उसकी काली करतूतें दुनिया से छुपी थीं लेकिन जबसे उसका नकाब उतरा है तबसे वो भागता फिर रहा है पुलिस से बचने के लिए उसने अपना रूप भी बदला और ठिकाना भी अब खबर है कि शहर में आ गए हैं उसके कई डुप्लीकेट।

महाठग: सपनों के नाम पर जालसाजी

कुछ लोग सपने बेचते हैं और कुछ इतने शातिर होते हैं जो सपनों के नाम पर करते हैं छल, फरेब और ज़ालसाज़ी का काला कारोबार। एक सुनहरा ख्वाब, रातों-रात दौलतमंद बनने का सपना, एक ऐसा सपना जिसे हर कोई बार-बार देखना चाहता है। हर इंसान की ये दिली ख्वाहिश होती है कि उसका ये ख्वाब बस एक बार सच हो जाए।

पकड़े जाएंगे 26/11 के गुनहगार!

26/11 को मुंबई में जो कुछ भी हुआ था उसे देश कभी भुला नहीं सकेगा लेकिन बड़ा सवाल यह कि हमने इस आतंकी घटना से क्या कोई सबक लिया? यह देश की आर्थिक राजधानी पर आक्रमण था, यह मुंबई को तबाह करने और हमारी सुरक्षा ब्यवस्था को चुनौती देने के लिए हमला था।

मां-बाप ने ही आरुषि को मारा

आरुषि हेमराज हत्याकांड में कोर्ट ने आरुषि के माता-पिता राजेश और नूपुर तलवार को दोषी माना है। कोर्ट में सीबीआई ने तलवार दंपत्ति के खिलाफ क्या सूबुत रखे गए जिन्हें ध्यान में रखकर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया।

तेजपाल का `डर्टी तहलका`

अपने जूनियर पत्रकार के साथ बेशर्मी करने वाले तेजपाल का गुनाह ढकने में लगे तहलका प्रबन्धन को जोरदार झटका लगा है। तरुण तेजपाल के गुनाह की गम्भीरता को पूरे देश ने देखा लेकिन तथाकथित पत्रकारिता के मानक स्थापित करने का दावा करने वाला तहलका प्रबंधन की आंखें सच देखना ही नहीं चाह रही थीं। ऐसे में पीड़ित लड़की को कोई न्याय मिल पाता यह आसानी से समझा जा सकता है।

तरुण तेजपाल का शर्मनाक `तहलका`

तरुण तेजपाल पर जिस प्रकार का आरोप लगा है वह निहायत ही निक्रिस्ट और निचले स्तर का है। ये वही तरुण तेजपाल हैं जो अपने खुलासों से तहलका मचाते रहे हैं, लेकिन अब जो तहलका उन्होंने मचाया है उससे न सिर्फ उनके अपितु उनके संस्थान पर भी काला धब्बा लग गया है।

मोदी को निशाना बनाने की जिम्‍मेदारी दाऊद को सौंपी

गुजरात में नाकाम रहने के बाद आतंकियों का इरादा मोदी को दूसरे राज्यों में रैली के दौरान निशाना बनाने का है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक देश की राजधानी दिल्ली समेत चार ऐसे राज्य है जहां मोदी के हर कदम पर है दहशतगर्दों की नजर। कदम कदम पर है मोदी को खतरा।

चुनावों को लेकर सटोरियों की बड़ी बाजी

छत्तीसगढ़ छोड़कर बाकी के चार राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव अभी शुरुआती दौर में ही हैं लेकिन सट्टा बाजार में चुनाव को लेकर बाजी लगने का दौर शुरू हो गया है। हर दिन सटोरियों के पास नई नई बाजियां लग रही हैं। हर दिन बाजी के रेट बदल रहे हैं और हर दिन सट्टा बाजार के रेट के आधार पर लगाया जा रहा है पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनाव के परिणाम का अनुमान।

कहां छिपे हैं दहशतगर्द?

पटना और गया को दहलाने वाले आतंकवादी अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए दहशतगर्दों ने बना लिया है नया ठिकाना और जुट गए हैं आतंक की नई कार्रवाई को अंजाम देने में।

फोन टैपिंग और घातक साजिश

फोन टैपिंग का मायाजाल, जिस पर गड़ गई हैं खुफिया एजेंसियों की निगाहें। शक है कि टैपिंग के आड़ में तैयार हो रही है देश के दुश्मनों की बड़ी साज़िश।

आतंकियों के निशाने पर बिहार

दहशतगर्दों ने एक बार फिर तैयार कर लिया आतंक का एक बड़ा प्लान। खुफिया सूत्रों की मानें तो देश के दुश्मनों के निशाने पर इस बार ऐतिहासिक सोनपुर मेला है। सारण प्रमंडल होने वाला ये मेला पूरे एक महीने तक चलता है और इस दौरान बिहार के साथ ही पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल से भी लाखों की संख्या लोग यहां आते हैं। लेकिन अब यही मेला बन गया है आतंकियों का टार्गेट।

सचिन तेंदुलकर पर लगा है सबसे बड़ा सट्टा

सचिन तेंदुलकर अपनी जिंदगी का आखिरी और करियर का दो सौवां टेस्ट मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेलने वाले हैं। पूरी दुनिया को उनके इस मैच का बेसब्री से इंतजार है।