...क्या शाहिद कपूर की बीवी लड़कियों को खूबसूरती और कपड़ों पर जज करती थीं

Last Updated: Monday, March 20, 2017 - 14:27
...क्या शाहिद कपूर की बीवी लड़कियों को खूबसूरती और कपड़ों पर जज करती थीं
'मीरा राजपूत की सोच बहुत छोटी है' (PIC : INSTAGRAM)

नई दिल्ली : बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर की पत्नी मीरा राजपूत एक बार फिर सुर्खियों में बनी हुई है. इस बार मीरा को फेमिनिज्म पर दिए गए एक बयान को लेकर काफी आलोचना झेलनी पड़ रही है.

दरअसल, अंतरराष्ट्रीय दिवस के मौके पर मीरा ने कामकाजी महिलाओं को लेकर एक बयान दिया था. इस बयान से वर्किंग वूमेंस काफी नाराज हो गई थीं, जिसके बाद शाहिद ने मीरा की तरफ से सफाई भी दी थी, लेकिन लगता है उनकी सफाई का कुछ खास असर नहीं हुआ है. अब मीरा की एक क्लासमेट ने उनकी पोल खोलते हुए एक फेसबुक पोस्ट किया है. 

बता दें कि मीरा ने कामकाजी महिलाओं के बारे में कहा था कि वो अपने बच्चों को ‘पपी’ (डॉगी का बच्चा) की तरह ट्रीट करती हैं. इसे लेकर उनकी एक बैचमेट ने उन पर तीखा हमला किया है. मीरा के क्लासमेंट ने उन्हें छोटी सोच वाला बताते हुए लिखा है-

डियर मीरा, 

तुम्हारा इंटरव्यू देखा, जिसे देखकर मुझे गुस्सा आया. मैंने तुम्हारे कॉलेज और तुम्हारे बैच में ही तीन साल बिताए हैं और आज मैं कॉन्फिडेंस के साथ कह सकती हूं कि फैमिनिज्म का तुम्हारा नजरिया बहुत खराब है. तुम कॉलेज में अपने ग्रुप के साथ घूमती थीं और जो लड़कियां तुम्हारे फैशन स्टेंडर्ड से मैच नहीं करती थीं तुम उनको छोटा समझती थीं. ये तुम्हारी छोटी सोच को दिखाता है. कामकाजी महिलाओं पर दिया गया बयान हमें पीछे उन सालों में ले जाता है जहां वास्तविक सश्क्तिकरण था, जिसके बारे में तुम कुछ नहीं जानतीं.

बहुत गुस्से से, 
एक इनफॉर्म्ड फेमिनिस्ट 

मीरा की इस कॉलेज की क्लासमेट ने उन्हें लड़कियों को फिटनेस के तौर पर आंकने वाला बताया है. उन्होंने बताया कि मीरा लड़कियों को उनकी खूबसूरती और कपड़ों के आधार पर जज किया करती थीं. उन्होंने मीरा को लेकर कई खुलासे किए हैं. साथ ही उन्होंने मीरा के बयान पर अपना गुस्सा भी जताया है.

ये कहा था मीरा ने अपने इंटरव्यू में 

बता दें कि मीरा ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि फेमिनिज्म की नई परिभाषा बहुत आक्रामक और विनाशकारी है. साथ ही उन्होंने कहा था कि मैं हाउस वाइफ हूं और इस बात पर गर्व करती हूं. मीशा (शाहिद- मीरा की बेटी) को इस दुनिया में लाना मेरे लिए काफी मुश्किल था. मुझे घर पर रहना और अपनी बेटी के साथ समय बिताना अच्छा लगता है. मैं नहीं चाहती कि मैं एक घंटा उसके साथ बिताऊं और फिर काम पर चली जाऊं. मैं उसे दुनिया में क्यों लाई हूं? वो पपी नहीं है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क

First Published: Monday, March 20, 2017 - 13:34
comments powered by Disqus