विवादों में घिरी CBI पहुंची श्रीश्री रविशंकर की शरण में, 150 अफसर कल से सीखेंगे आर्ट ऑफ लिविंग

अधिकारियों के लिए शनिवार से तीन दिनों के लिए विशेष वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है. इस वर्कशॉप में सीबीआई के इंस्पेक्टर से लेकर इंचार्ज डायरेक्टर तक शामिल हो रहे हैं.

विवादों में घिरी CBI पहुंची श्रीश्री रविशंकर की शरण में, 150 अफसर कल से सीखेंगे आर्ट ऑफ लिविंग
CBI के 150 अधिकारियों के लिए वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच हुए विवाद के बाद सीबीआई को लेकर तमाम तरह के सवाल उठने शुरू हो गए हैं. इस विवाद का असर CBI के अन्य अधिकारियों पर भी पड़ा है. इसलिए विभाग ने अपने 150 अधिकारियों को आर्ट ऑफ लिविंग भेजने का फैसला किया है. विभाग ने फैसला लिया कि 150 अधिकारियों को आर्ट ऑफ लिविंग भेजा जाएगा. इन अधिकारियों के लिए शनिवार से तीन दिनों के लिए विशेष वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है. इसका मकसद अधिकारियों में फिर से पॉजिटिव एनर्जी का संचार करना है. इस वर्कशॉप में सीबीआई के इंस्पेक्टर से लेकर इंचार्ज डायरेक्टर तक शामिल हो रहे हैं. वर्कशॉप का आयोजन दिल्ली स्थित CBI हेड क्वार्टर में किया जा रहा है.

CBI निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जाने के बाद काफी विवाद हुआ था. मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा था. आखिरी सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि CVC दो हफ्ते के भीतर निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्‍थाना के खिलाफ जांच पूरी कर रिपोर्ट सौंपे. 

 

 

फिलहाल, दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेजा गया है. सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की अगली सुनवाई 12 नवंबर को है. आलोक वर्मा राकेश अस्थाना द्वारा लगाए गए आरोपों की हो रही छानबीन के सिलसिले में शुक्रवार को केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के.वी.चौधरी की अध्यक्षता वाली समिति के सामने लगातार दूसरे दिन पेश हुए. उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से नकारा. 


सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना.

आलोक वर्मा के अलावा राकेश अस्थाना ने भी बृहस्पतिवार को सीवीसी से मुलाकात की थी. समझा जाता है कि उन्होंने वर्मा के खिलाफ लगाए गए अपने आरोपों के समर्थन में कथित दस्तावेजी साक्ष्य पेश किए.