बुलेट ट्रेन: अब BJP यह नहीं कह पाएगी, हमने सिर्फ सैफई में विकास किया- अखिलेश यादव

पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि शायद उनको अब यह लग रहा होगा कि जहां से वो विकास शुरू कर रहे हैं, वह अच्छी जगह है. उनका उस जगह से रिश्ता है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Sep 14, 2017, 03:43 PM IST
बुलेट ट्रेन: अब BJP यह नहीं कह पाएगी, हमने सिर्फ सैफई में विकास किया- अखिलेश यादव
अखिलेश यादव ने दिल्‍ली से कोलकाता के बीच बुलेट ट्रेन चलाने की मांग की.(फाइल फोटो)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुजरात में बुलेट ट्रेन परियोजना के शिलान्यास पर तंज करते हुए गुरुवार को कहा कि देश की सबसे ज्यादा आबादी दिल्ली से कोलकाता के बीच रहती है, लिहाजा यह ट्रेन इसी बीच चलनी चाहिये. अखिलेश ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''अब भाजपा के लोग हम पर यह इल्जाम नहीं लगा सकेंगे कि हमने सिर्फ सैफई में विकास किया. शायद उनको अब यह लग रहा होगा कि जहां से वो विकास शुरू कर रहे हैं, वह अच्छी जगह है. उनका उस जगह से रिश्ता है. हमारा भी सैफई से रिश्ता है. हम अपनी कुछ योजनाओं की शुरुआत वहीं से करते थे. भाजपा के लोग अब हमें सैफई वाला ताना नहीं दे सकेंगे.'' 

दिल्‍ली-कोलकाता के बीच चले बुलेट ट्रेन
उन्होंने कहा, ''कहा जा रहा है कि जैसे-जैसे बुलेट ट्रेन चलेगी, वैसे-वैसे बेरोजगारी खत्म हो जाएगी. देश की सबसे ज्यादा आबादी दिल्ली से कोलकाता के बीच रहती है. बुलेट ट्रेन की शुरुआत इधर होनी चाहिये, जिससे यहां के तमाम किसानों और नौजवानों को रोजगार मिल सके.'' पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर दिल्ली से बुलेट ट्रेन चले और लखनऊ, वाराणसी होते हुए बिहार और बंगाल तक चली जाए तो बहुत बड़ी आबादी को लाभ पहुंचेगा.

यह भी पढ़ें- वंशवाद: अखिलेश ने राहुल का बचाव किया, US के दो पूर्व राष्‍ट्रपतियों का दिया हवाला

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बुलेट ट्रेन परियोजना की लागत बहुत अधिक है. इसमें बैठने वालों को सफर के लिये कितना धन देना पड़ेगा, शायद यह बात भी जल्दी सामने आ जाएगी. मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे ने गुरुवार को अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलने वाली देश की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना की आधारशिला रखी. करीब एक लाख 10 हजार करोड़ रुपये की लागत वाली इस परियोजना के वर्ष 2022 तक पूरा होने की संभावना है.

(इनपुट: भाषा)