असमः मंत्री ने विधानसभा में कहा, 'मिजोरम सीमा पर तनाव कम करने की कोशिश कर रही है सरकार'

27 फरवरी को अंतरराज्यीय सीमा के पास असम के हाइलाकांडी जिले में कचुरथल में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 154 पर एक विश्राम गृह बनाने का प्रयास किया. 

असमः मंत्री ने विधानसभा में कहा, 'मिजोरम सीमा पर तनाव कम करने की कोशिश कर रही है सरकार'
मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल खुद असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति पर नजर रख रहे हैं..(फाइल फोटो)
Play

गुवाहाटी: असम के संसदीय कार्य मंत्री चंद्र मोहन पटोवरी ने विधानसभा में कहा कि असम सरकार मिजोरम के साथ राज्य की सीमा पर तनाव कम करने और शांति कायम रखने के लिए कदम उठा रही है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल खुद असम-मिजोरम सीमा पर स्थिति पर नजर रख रहे हैं. तनाव उस समय पैदा हो गया था जब छात्र संगठन मिजो जिरलाई पावल ने 27 फरवरी को अंतरराज्यीय सीमा के पास असम के हाइलाकांडी जिले में कचुरथल में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 154 पर एक विश्राम गृह बनाने का प्रयास किया.

इस घटना को राजनीतिक रूप से प्रेरित बताते हुए पटोवरी ने आरोप लगाया कि इन सभी घटनाओं के पीछे राजनीतिक हित हैं. कुछ लोग राजनीतिक रूप से प्रेरित होकर लाभ के लिए असम और मिजोरम के बीच तनाव पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें- असम : दीमा हसाओ में कर्फ्यू जारी, पुलिस फायरिंग में 2 लोगों की गई जान

असम के दीमा हसाओ में कर्फ्यू
बता दें कि 27 जनवरी को असम के दिमा हसाओ जिले के माइबांग इलाके में विरोध प्रदर्शन के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया था. विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस की गोलीबारी में दो लोगों की मौत और 10 लोगों के घायल होने की जानकारी मिली थी. ग्रेटर नागालिम में दिमा हसाओ जिले के विलय के खिलाफ इलाके में व्यापक पैमाने पर विरोध प्रदर्शन चल रहा था. प्रदर्शन कर रहे लोगों को शांत कराने के लिए पुलिस ने फायरिंग की थी. असम में आरएसएस के एक नेता के बयान से बवाल मचे बवाल के कारण असम के कई इलाकों में दिमा हसाओ बंद का ऐलान किया गया था. 

गणतंत्र दिवस के मौके पर हुए तीन धमाके
असम के तिनसुकिया जिले में गणतंत्र दिवस के मौके पर शुक्रवार (26 जनवरी) को कम तीव्रता वाले तीन बम धमाके हुए थे. इसके अलावा पुलिस ने बताया कि उसने लखीमपुर जिले में गुरुवार (25 जनवरी) रात तलाशी अभियान के दौरान एक आईईडी और दो जिलेटिन की छड़ें बरामद कीं. तीन विस्फोटों को तिनसुकिया जिले में दो अलग-अलग स्थानों पर उल्फा (आई) के संदिग्ध उग्रवादियों ने अंजाम दिया था.

इनपुट भाषा से भी 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close