बिहार के मंत्री के साथ पश्चिम बंगाल में होटल के स्टाफ ने की बदसलूकी, शिकायत दर्ज

मंत्री के अतिरिक्त सचिव कुमार ने दावा किया, ‘‘हमने होटल छोड़ने और बुकिंग राशि को रिफंड करने की मांग की, लेकिन उन्होंने मना कर दिया और कर्मचारियों ने हमपर हमला किया.’’

बिहार के मंत्री के साथ पश्चिम बंगाल में होटल के स्टाफ ने की बदसलूकी, शिकायत दर्ज
बिहार के शहरी विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा. (ANI Photo)

सूरी (पश्चिम बंगाल): पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के तारापीठ में एक होटल के कर्मचारियों द्वारा बिहार के एक मंत्री के साथ कथित तौर पर बदसलूकी के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस को शिकायत मिली है. इस आरोप का होटल के अधिकारियों ने खंडन किया है. अधिकारियों ने बताया कि बुकिंग राशि के रिफंड को लेकर विवाद के बाद बिहार के शहरी विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा के साथ होटल के कर्मचारियों ने कथित तौर पर बदसलूकी की. शर्मा तारापीठ में पूजा अर्चना करने आए थे. अपनी शिकायत में मंत्री के अतिरिक्त सचिव संजीव कुमार ने बताया कि होटल में दो कमरे ऑनलाइन बुक किये गए थे. हालांकि, अपराह्न में वहां पहुंचने के बाद हमने पाया कि कमरे मंत्री के लिये उपयुक्त नहीं थे.’’ उन्होंने बताया कि होटल से वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा गया, लेकिन उन्होंने मंत्री के साथ गाली-गलौज की.

कुमार ने दावा किया, ‘‘हमने होटल छोड़ने और बुकिंग राशि को रिफंड करने की मांग की, लेकिन उन्होंने मना कर दिया और कर्मचारियों ने हमपर हमला किया.’’ उन्होंने बताया, ‘‘मंत्री के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बचाया और हमें होटल छोड़ने को बाध्य किया गया.’’ कुमार ने आरोप लगाया कि होटल के कर्मचारियों ने मंत्री के सुरक्षा गार्ड का हथियार छीनने का प्रयास किया. इसमें वह क्षतिग्रस्त हो गया. उन्होंने आरोप लगाया कि मंत्री के चालक के सिर में चोट आई है.

होटल के अधिकारियों ने हालांकि आरोपों का खंडन किया है. होटल के फ्रंट आफिस असिसटेंट प्रणब कुमार माना ने पुलिस के समक्ष एक शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि नशे की हालत में मंत्री के लोगों ने उनपर हमला किया. रामपुरहाट थाने में दर्ज कराई गई जवाबी शिकायत में प्रणब कुमार माना ने कहा कि चूंकि बुकिंग ऑनलाइन की गई थी, इसलिये उन्होंने अतिथियों को सुझाव दिया कि वे इसे ऑनलाइन रद्द करें. हालांकि, उन्होंने नकद रिफंड करने पर जोर दिया.

मान ने अपनी शिकायत में कहा, ‘‘बहस के दौरान उनके लोगों और गार्ड ने मुझपर लाठी और अन्य हथियारों से हमला किया. उन्होंने कंप्यूटर भी तोड़ दिया और ऑफिस में तोड़फोड़ की. वे पूरी तरह नशे में थे और मुझपर बंदूक भी तान दी और मुझे मार डालने की धमकी दी.’’ बीरभूम के जिलाधिकारी पी मोहन गांधी ने रामपुरहाट के उपसंभागीय अधिकारी से मामले की जांच करने को कहा है.

मंत्री और उनके साथ पहुंचे लोग बाद में दूसरे होटल में चले गए. सुरेश शर्मा ने कहा कि होटल के कर्मचारियों ने उनके सुरक्षाकर्मियों का हथियार छीनने का प्रयास किया. उन्होंने दावा किया कि पश्चिम बंगाल सरकार ने उनकी यात्रा के बारे में पहले से सूचित किये जाने के बावजूद प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया. शर्मा ने कहा कि जब वह झारखंड में दुमका के रास्ते राज्य में घुसे तो कोई पुलिसकर्मी उनकी सुरक्षा के लिये नहीं था. उन्होंने कहा कि यहां तक पुलिस घटना के बाद उनकी शिकायत दर्ज करने को लेकर भी अनिच्छुक थी.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close