हजारीबागः त्वरित सुरक्षा के लिए लगाए गए जीपीएस वाहन नहीं हुए है 8 महीने से रिचार्ज

झारखंड स्थित हजारीबाग सीसीआर की आंतरिक व्यवस्था में बड़ी खामी प्रकाश में आया है.

हजारीबागः त्वरित सुरक्षा के लिए लगाए गए जीपीएस वाहन नहीं हुए है 8 महीने से रिचार्ज
हजारीबाग में सुरक्षा वाहनों में लगे जीपीएस सिस्टम को रिचार्ज नहीं किया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

हजारीबागः झारखंड स्थित हजारीबाग सीसीआर की आंतरिक व्यवस्था में बड़ी खामी प्रकाश में आया है. राज्य सरकार ने शहर में सुरक्षा बहाल करने व त्वरित कार्रवाई में सुविधा को लेकर जिन जीपीएस लगे वाहनों को मुहैया कराया है, उन वाहनों का जीपीएस पिछले आठ माह से रिचार्ज ही नहीं किया गया था. बगैर रिचार्ज के सिर्फ लोगों को दिखाने के लिए व डराने के लिए शहर की सड़कों पर दर्जनों वाहन दौड़ रहे थे. 

कंट्रोल से बाहर होने के कारण टीम शहर के किसी भी रूट व शहर से बाहरी इलाकों में बेवजह भ्रमण करती रहती थी. जीपीएस रिचार्ज नहीं होने के कारण उनका मॉनीटरिंग भी सीसीआर से डिस्कनेक्ट हो गया था. यह भेद खुलने के बाद कई तरह की आशंकाएं लोगों में हैं. 

आखिर रिचार्ज नहीं किए जाने का मकसद क्या था. कहीं ऐसा तो नही कि पेट्रोलिंग टीम को अप्रत्यक्ष रूप से बगैर डायरेक्शन के राउंड लगाने की खुली छूट दे दी गई थी और उनके गुनाहों को छुपाने के लिए जीपीएस को हीं रिचार्ज नहीं कर बेकार कर दिया गया था.

राज्य मुख्यालय द्वारा मुहैया कराए गए 19 सफारी वाहन शहर के सड़कों पर लगातार दौड़ रही हैं. जिसका नियंत्रण सीसीआर ऑफिस से है. जहां से जीपीएस के माध्यम से पुलिस व वाहनों के हरेक गतिविधियों पर वाच करने की व्यवस्था बनी हुई है. इसके लिए सीसीआर में टेकनिकल जानकार कई लोग पदस्थापित हैं. जीपीएस लगे होने के कारण वाहनों पर इतनी बारीक निगरानी रखने की व्यवस्था है. जिससे वाहन के साथ पेट्रोलिंग कर रही टीम झूठ को नहीं छिपा पाएगी. 

ऐसे में सीसीआर कंट्रोल रूम हरेक वाहनों के बारे में यह जान सकेगा कि कौन सा वाहन किस इलाके में है और अगर कहीं घटना घटी तो यह भी पता कर लेगा कि घटना स्थल से कितनी दूरी पर पेट्रोलिंग टीम मौजूद है. यह भी पल पल की खबर कंट्रोल रख सकेगा कि वाहन अपने इलाके को छोड़ किसी अन्य ठिकानों पर तो नहीं हैं. पेट्रोलिंग टीम के हरेक गतिविधियों की जानकारी कंट्रोल रूम के स्क्रीन पर चलता रहेगा. लेकिन इस व्यवस्था का उपयोग ही नहीं किया जा रहा है. 

GPS रिचार्ज नहीं होने की बाबत और लोगों की सुरक्षा में कमी होने की बाबत जब हजारीबाग में नव पदस्थापित महिला DSP से  सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हम इस बात को लेकर गंभीर हैं और इस संबंध में अपने आला अधिकारी से बात भी किए हैं लेकिन उनका कहना है कि हमारे पास फिलहाल फंड की कमी है जिससे कि आने वाले दिनों में पूरा कर लिया जाएगा और जल्द ही GPS सिस्टम को फिर से सुचारु रुप से शुरू कर लोगों को बेहतर सुरक्षा दिया जाएगा.

रिचार्ज नहीं करा कर सिस्टम को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया. यह तथ्य सामने आने के बाद अब लोगों को समझ में आने लगा है कि जिन वाहनों को हाइवे पर होना चाहिए वह रेलवे स्टेशन रोड में कैसे पहुंच जाता था और जिसे शहर में होना चाहिए वह पेलावल, गदोखर इलाका कैसे पहुंच जाता था.  

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close