2019 लोकसभा चुनावों में जेल से RJD को दिशा देंगे लालू, तय करेंगे हर प्रत्याशी का नाम

बैठक के बाद एक पार्टी नेता ने कहा, सजायाफ्ता होने की वजह से लालू प्रसाद के चुनाव लड़ने पर भले ही रोक हो, लेकिन वो आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी हैं. 

2019 लोकसभा चुनावों में जेल से RJD को दिशा देंगे लालू, तय करेंगे हर प्रत्याशी का नाम
फाइल फोटो
Play

शैलेंद्र कुमार सिंह, पटना : चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव का भले ही बीमारी और परेशानी से जूझ रहे हो, लेकिन आरजेडी में क्या होगा और क्या नहीं इसका फैसला उन्हीं के हाथों में है. मंगलवार (12 सितंबर) को पटना में हुई पार्टी की बैठक में 2019 कलोकसभा चुनाव में आरजेडी कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगी, कितनी सीट सहयोगियों के लिए छोड़े, जब इससे संबंधित बात आई, तो सभी पार्टी नेताओं ने इसका फैसला लालू प्रसाद यादव पर छोड़ा. 

जेल में होने के बाद भी पार्टी अध्यक्ष हैं लालू
बैठक के बाद एक पार्टी नेता ने कहा, सजायाफ्ता होने की वजह से लालू प्रसाद के चुनाव लड़ने पर भले ही रोक हो, लेकिन वो आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी हैं. इसी नाते सीटों का फैसला वही करेंगे और कौन प्रत्याशी मैदान में उतरें, इस पर लालू प्रसाद ही मुहर लगाएंगे.

तेजस्वी यादव की अध्यक्षता में हुई पार्टी मीटिंग
विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव की अध्यक्षता में पार्टी पदाधिकारियों और अन्य नेताओं की बैठक हुई, जिसमें पूर्व सीएम राबड़ी देवी भी शामिल हुईं. बैठक में लिए गए फ़ैसलों से राबड़ी देवी सहमत दिखीं. उन्होंने कहा कि हम बैठक से संतुष्ट हैं. वहीं, पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने बताया कि बैठक के दौरान जिलों में पार्टी संगठन को लेकर मंगली लाल मंडल और पूर्व केंद्रीय मंत्री एए फातमी ने अपनी बात रखी. साथ ही राजद प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, प्रधान महासचिव आलोक मेहता, पूर्व मंत्री जगतानंद सिंह ने संगठन और एससी/एसटी एक्ट को लेकर अपनी बात रखी. 

ये भी पढ़ें: 'काका के ठीहा' : समाज मे खैनी वाला रिश्ता के डोर ना काटी ए नीतीश बाबू

लालू ही ले रहे हैं पार्टी के बड़े फैसले!
लालू प्रसाद इससे पहले भी जेल में रहते हुए पार्टी के बड़े फैसले लेते रहे हैं, चाहे राज्यसभा चुनाव में कौन प्रत्याशी होंगे या फिर विधान परिषद का चुनाव हो. सब फैसला लालू प्रसाद की सहमति से लिए गए हैं. महागठबंधन में शामिल दलों को लालू प्रसाद किस तरह से एकजुट रखकर 2019 के लिए तैयार करते हैं, ये देखना होगा, क्योंकि अब धीरे-धीरे सीट बंटवारे का दबाव महागठबंधन में शामिल दलों पर भी बढ़ रहा है. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close