RSS के कहने पर सरकार ने लिया था नोटबंदी का फैसला : राहुल गांधी

कर्नाटक में चुनावी प्रचार पर निकले राहुल गांधी ने आज मंगलवार को अपनी सभाओं में केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि केंद्र में बीजेपी की नहीं बल्कि आरएसएस की सरकार चल रही है. 

RSS के कहने पर सरकार ने लिया था नोटबंदी का फैसला : राहुल गांधी
राहुल गांधी इन दिनों कर्नाटक के दौरे पर हैं
Play

कुलबर्गा : कर्नाटक में चुनावी प्रचार पर निकले राहुल गांधी ने आज मंगलवार को अपनी सभाओं में केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि केंद्र में बीजेपी की नहीं बल्कि आरएसएस की सरकार चल रही है. देश की हर संस्थान पर संघ का कब्जा है. यहां तक कि संघ के कहने पर ही सरकार फैसले ले रही है. राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी का फैसला भी संघ के इशारों पर किया गया था.

कुलबर्गा में बोले राहुल
मंगलवार को राहुल कुलबर्गा में थे और यहां उन्होंने कारोबारियों और पेशेवरों से मुलाकात के दौरान ये बातें कहीं. राहुल ने कहा, ‘‘आपको पता है कि नोटबंदी का विचार कहां से आया? आपको पता है कि नोटबंदी का विचार प्रधानमंत्री को किसने दिया? आरबीआई ने नहीं, अरुण जेटली (वित्त मंत्री) ने नहीं, वित्त मंत्रालय के किसी अधिकारी ने भी नहीं. आरएसएस के एक खास विचारक ने यह विचार दिया.’’ उन्होंने आगे कहा, ‘‘अब आप कल्पना कर सकते हैं कि आरएसएस प्रधानमंत्री को विचार देता है और प्रधानमंत्री उस विचार पर अमल भी कर देते हैं.’’ 

हर जगह RSS का कब्जा
राहुल ने कहा कि आरएसएस और भाजपा के काम करने का तरीका यही है. उन्होंने कहा कि आरएसएस और भाजपा के लोगों को लगता है कि वे ही सब कुछ जानते हैं और फिर ऐसे विनाशकारी फैसले ले रहे हैं. उन्होंने कहा कि एक बच्चा भी कहेगा कि 500 और 1000 रुपए के नोटों को बर्बाद करना अच्छा विचार नहीं था, क्योंकि इससे भ्रष्टों को अपना काला धन सफेद कराने का मौका मिल गया. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि मोदी सरकार के मंत्री स्वतंत्र रूप से काम नहीं कर रहे, क्योंकि हर मंत्रालय में आरएसएस के लोग बिठा दिए गए हैं.

राहुल गांधी जहां भी प्रचार के लिए जाते हैं कांग्रेस हारती है, BJP जीत जाती है: प्रकाश जावडेकर

संघ देता है निर्देश
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि भारत के हर एक मंत्रालय में राष्ट्रीय स्तर पर एक ओएसडी (विशेष कार्य अधिकारी) है जो आरएसएस से है और मंत्री के साथ काम कर रहा है. भारत के हर मंत्रालय में आरएसएस का एक आदमी है जो मंत्री के साथ काम कर रहा है. मंत्री अपने मन से काम नहीं कर रहे. उन्होंने कहा कि मंत्रियों को आरएसएस से निर्देश मिलते हैं कि उन्हें क्या करना है. 

Rahul Gandhi
अपने कर्नाटक दौरे में राहुल गांधी मंदिरों में भी विशेष पूजा-अर्चना कर रहे हैं

उन्होंने कहा, ‘‘तरीका ये है कि कब्जा करो, तरीका ये है कि एक संस्था है और आओ इस पर कब्जा करें, यह किसी संस्था को भारत के लोगों की सेवा करने देने और उसे भारत के लोगों के नियंत्रण में होने देने के खिलाफ है.’’ 

BJP के गढ़ में कांग्रेस का 'कार्ड' और राहुल गांधी की 'मंदिर पॉलिटिक्‍स'

राहुल ने कहा कि कांग्रेस इस विचार को मानती है कि संस्थाओं पर लोगों का नियंत्रण होना चाहिए. उन्होंने कहा कि राजनीतिक पार्टी का काम राजनीतिक प्रणाली को चलाना है, न कि किसी संस्था पर कब्जा कर उसे चलाना और उसे अपनी आस्था के मुताबिक आकार देना.

उन्होंने कहा कि भाजपा के साथ हमारा यही मौलिक टकराव है. उनका विचार है कि वे जहां भी जाते हैं अपनी विचारधारा वाले लोगों को उस संस्था में बिठा देते हैं. राहुल ने कहा कि कांग्रेस संस्थाओं के लोकतांत्रिकरण के पक्ष में है जबकि भाजपा उनके नौकरशाहीकरण में यकीन रखती है. पेशेवरों और कारोबारियों से मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा कि देश में और ज्यादा महिला सांसद और महिला मुख्यमंत्री होने चाहिए.

(इनपुट भाषा से)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close