25 लाख की लूटपाट के आरोप में 'AAP की युवा शाखा का नेता’ गिरफ्तार, पार्टी ने नकारे आरोप

Last Updated: Monday, March 20, 2017 - 09:39
25 लाख की लूटपाट के आरोप में 'AAP की युवा शाखा का नेता’ गिरफ्तार, पार्टी ने नकारे आरोप
लूटपाट के आरोप में 'AAP की युवा शाखा का नेता’ गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो)

नयी दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी (AAP) की युवा शाखा के नेता बताए जा रहे एक शख्स और उसके कुछ अन्य साथियों को लूटपाट के एक मामले में गिरफ्तार किया है. (AAP) का सदस्य बताए जा रहे शख्स पर आरोप है कि उसने अपने साथियों के साथ एक व्यक्ति से 25 लाख रूपए और कुछ अन्य कीमती सामानों की लूटपाट की.

गिरफ्तार किए गए 25 साल के नजीब के बारे में पुलिस ने बताया कि वह जाफराबाद में ‘आप’ की युवा शाखा का अध्यक्ष है । हालांकि, पार्र्टी ने नजीब से कोई रिश्ता होने के आरोप से इनकार किया. ‘आप’ की युवा शाखा की प्रभारी वंदना सिंह ने कहा, ‘आरोपी हमारा पदाधिकारी नहीं है.हमारी युवा शाखा से उसका कोई लेना-देना नहीं है . दिल्ली पुलिस हर जगह ‘आप’ के तार जोड़ने की कोशिश करती है.’

पुलिस ने बताया कि लूटपाट की वारदात 12 मार्च को जाफराबाद में हुई. पीड़ित ने आरोप लगाया कि उससे 25 लाख रूपए, एक मोबाइल फोन और अन्य दस्तावेज बंदूक दिखाकर लूट लिए गए.जब गिरोह के सदस्यों ने गोलियां चलाई तो एक राहगीर को गोली लगी जिससे वह जख्मी हो गया.

पुलिस ने बताया कि एक आरोपी को तो राहगीर ने मौके पर ही धर दबोचा. नजीब सहित उसके साथी मौके से भागने में कामयाब हो गए थे, लेकिन उन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस ने उनके पास से 16,06,000 रूपए, एक देसी पिस्तौल और उनकी ओर से चुराई गई एक मोटरसाइकिल बरामद की है.

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कसा तंज

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आज कहा कि लूट की कथित घटना के मामले में आम आदमी पार्टी के युवा नेता नजीब और उसके साथियों की गिरफ्तारी की रिपोर्ट से यह साबित होता है कि आप असामाजिक तत्वों की शरणस्थली बन गयी है.

तिवारी ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को शहर के लोगों के समक्ष स्पष्टीकरण देना चाहिए कि वह नजीब और संदीप कुमार, शरद चौहान, राजेश रिषि, सोमनाथ भारती तथा अमानातुल्ला खान जैसे नेताओं के खिलाफ किस प्रकार की कार्रवाई करेंगे.

 

 

एजेंसी

First Published: Monday, March 20, 2017 - 09:39
comments powered by Disqus