समाजवादी पार्टी के बाद अब एक और ताकतवर राजनीतिक परिवार में फूट!

लोकसभा चुनाव से पहले कई सियासी परिवारों में फूट देखने को मिल रही है.

समाजवादी पार्टी के बाद अब एक और ताकतवर राजनीतिक परिवार में फूट!
चौटाला परिवार की अंतर्कलह खुलकर सामने आ गई है..

चंडीगढ़: लोकसभा चुनाव से पहले कई राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिल रहे हैं. उत्तर प्रदेश में मुलायम परिवार में फूट खुलकर सामने आई और इतनी बढ़ी कि शिवपाल यादव ने प्रगतिवादी समाजवादी पार्टी बना ली है. अब एक और राजनीतिक परिवार में अनबन बढ़ती जा रही है. ये परिवार है हरियाना का चौटाला परिवार जहां आपसी मनमुटाव की खबरें जोर पकड़ रही हैं. खुले तौर पर विवाद की शुरुआत पार्टी गुरुवार को उस समय हुई जब इंडियन नेशनल लोकदल के सुप्रीमो एवं पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी ओम प्रकाश चौटाला ने पार्टी की युवा एवं छात्र शाखा को भंग कर दिया. 

इस कदम से विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला और उनके भतीजों दुष्यंत तथा दिग्विजय के बीच मतभेद सामने आ गए हैं. हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला पार्टी की युवा शाखा के नेता थे वहीं दिग्विजय INSO के प्रमुख थे. दोनों ही इनेलो के राज्य इकाई के महासचिव अजय सिंह चौटाला के बेटे हैं. दिग्विजय का कहना है कि छात्र शाखा की स्थापना उनके पिता अजय सिंह चौटाला ने की थी. लिहाजा वही इसी भंग कर सकते हैं, कोई और नहीं. 

दुष्यंत सिंह चौटाला पार्टी से निलंबित! 
इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के वरिष्ठ नेता अभय सिंह चौटाला ने शुक्रवार को चौटाला परिवार में आपसी मनमुटाव की खबरों को तवज्जो न देते हुए कहा कि उनके भतीजे दुष्यंत और दिग्विजय उनके ‘अपने बच्चे’ हैं लेकिन जोर दिया कि पार्टी के अनुशासन को भंग करने पर कार्रवाई की जाएगी. अभय सिंह चौटाला ओमप्रकाश चौटाला के छोटे बेटे हैं. दुष्यंत और दिग्विजय अभय के बड़े भाई अजय सिंह चौटाला के बेटे हैं. अभय ने कहा, "दुष्यंत (और दिग्विजय) के साथ कोई मनमुटाव नहीं है, वे हमारे बच्चे हैं." हालांकि उन्होंने कहा, "अनुशासन हमारी पार्टी की सबसे बड़ी ताकत है. अगर कोई भी उसका उल्लंघन करता है तो पार्टी कार्रवाई करेगी." 

INLD family
अभय ने कहा कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि क्या हिसार लोकसभा सीट से इनेलो के सांसद दुष्यंत को पार्टी से निकाल दिया गया है. 

इस घटना से शुरू हुई पार्टी में गुटबाजी
गोहाना में सात अक्टूबर को एक रैली में युवाओं के एक समूह ने कथित रूप से अभय के खिलाफ नारेबाजी की और दुष्यंत के लिए तालियां बजाई थीं. इसके बाद इनेलो की इन दोनों इकाइयों को गुरुवार को भंग कर दिया गया. गोहाना में रैली पूर्व उप प्रधानमंत्री देवी लाल की 105वीं जयंती के मौके पर आयोजित की गई थी. अभय ने कहा कि छात्र और युवा इकाइयों से रैली का सुचारू संचालन सुनिश्चित करने के लिए कहा गया था और "जब वे ऐसा करने में नाकाम रहे, तब चौटाला साहब ने कदम उठाया." दिग्विजय का कहना है कि इंडियन नेशनल स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशन के संस्थापक अजय सिंह चौटाला ही इकाई को भंग कर सकते हैं. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close