जानिए, बंद कमरों में कांग्रेसी क्यों करते है पीएम मोदी की तारीफ

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Apr 21, 2017, 07:46 PM IST
जानिए, बंद कमरों में कांग्रेसी क्यों करते है पीएम मोदी की तारीफ
जानिए, बंद कमरों में कांग्रेसी क्यों करते है पीएम मोदी की तारीफ

नई दिल्लीः दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी में अजय माकन के आने के बाद से दिल्ली कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता खुद को दरकिनार समझा मानकर निगम चुनाव से पहले अपनी पूरी झल्लाहट बाहर निकाल रहे है. हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली ने कहा कि कांग्रेस पार्टी खत्म हो गई है. ऐसा नहीं है नेताओं द्वारा कांग्रेस छोड़ने की शुरुआत निगम चुनाव के समय में ही हुई है. लेकिन ऐसा मान सकते है कि किसी पार्टी के नेताओं का पार्टी छोड़कर जाना और किसी पार्टी में शामिल होना चुनावी मौसम में ही संभव हो पाता है.

कांग्रेसी बंद कमरों में करते है पीएम मोदी की तारीफ

लवली ने कहा कि कांग्रेस के कई नेताओं का पिछले दो वर्षों से दम घुट रहा है और वे बीजेपी में जाना चाहते हैं. लवली ने बताया कि बंद कमरे में कांग्रेस के नेता भी नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हैं. उन्होंने अजय माकन को कांग्रेस पार्टी का विलेन बताते हुए कहा कि सारा देश मानता है कांग्रेस निपट गई. उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ए के वालिया द्वारा एमसीडी चुनाव में टिकट बेचे जाने के आरोप के विषय को उठाया. उन्होंने कहा कि किसी ने इन शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया. 

दिल्ली कांग्रेस में माकन के खिलाफ कई नेता

दिल्ली कांग्रेस के बागियों की फेहरिस्त में सबसे पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता अंबरीश गौतम का नाम सामने आया. गौतम कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए. इसके बाद पूर्व मंत्री डॉ अशोक कुमार वालिया ने बगावती तेवर दिखाते हुए अजय माकन और पार्टी आलाकमान पर निशाना साधा था. हालांकि उन्होंने पार्टी नहीं छोड़ी है. लेकिन डॉ वालिया के निकट की सीट वाले लवली जी ज्यादा घुटन बर्दाश्त नहीं कर सके और उन्होनें निगम चुनावों से पहले ही बीजेपी ज्वाइन कर ली.  

लवली के कांग्रेस में जाने के कुछ दिन बाद ही दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष व पूर्व डीसीडब्ल्यू प्रमुख बरखा शुक्ला सिंह ने भी पार्टी आलाकमान पर निशाना साधते हुए कांग्रेस को टाटा कह दिया. क्योंकि 2013 में दिल्ली विधानसभा चुनाव, 2014 लोकसभा चुनाव और बाद में फिर 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव. सभी में कांग्रेस की बुरी तरह हार हुई. पार्टी का ग्राफ लगातार गिरता चला गया.

पुरानी है लवली-माकन तकरार 

अजय माकन ने दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कमान कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली के बाद ही संभाली. विधानसभा चुनाव 2015 में कांग्रेस दिल्ली में एक भी सीट पर जीत नहीं दर्ज सकी. जिसके बाद लवली ने इस्तीफा दे दिया था और राहुल गांधी ने अजय माकन को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया. हालांकि 2015 के विधानसभा चुनावों में लवली खुद चुनाव नहीं लड़े थे. लेकिन माकन दिल्ली सदर बाजार सीट से चुनाव लड़े और बुरी तरह हारे थे.

लेकिन फिर भी उन्हें पार्टी ने प्रदेश की कमान सौंपी. जिससे दिल्ली कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता नाराज हुए. बताया तो ये भी जा रहा था कि उस समय दिल्ली कांग्रेस को बदलाव के लिए पार्टी आलाकमना ने ही अजय माकन को दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष लवली को दरकिनार करते हुए टिकट बंटवारे में अहम भूमिका निभाने का मौका दिया. यही कारण रहा कि लवली ने अपनी सीट से ही खुद चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया. खैर पार्टी 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में शून्य पर आ पहुंची.

पार्टी के कई दिग्गज हारे जिनमें हारून युसूफ, राजकुमार चौहान, जय किशन, अजय माकन, डॉ एके वालिया, अंबरीश गौतम, मुकेश शर्मा, महाबल मिश्रा का नाम शामिल रहा. इसके बाद से पार्टी ने दिल्ली प्रदेश की कमान अजय माकन को सौंप दी.