राज्यसभा चुनाव: लाभ के पद के आरोप से कांग्रेस ने बोला भाजपा प्रत्याशी वत्स पर हमला

हरियाणा की एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए बीजेपी प्रत्याशी लेफ्टिनेंट जनरल सेवानिवृत्त डीपी वत्स पर कांग्रेस ने लाभ के पद का आरोप लगाया है.

ज़ी न्यूज़ डेस्क ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Mar 14, 2018, 12:44 AM IST
राज्यसभा चुनाव: लाभ के पद के आरोप से कांग्रेस ने बोला भाजपा प्रत्याशी वत्स पर हमला
कांग्रेस ने कहा कि उन्होंने अपने नामांकन पत्र में इस बात को छिपाया कि वह लाभ के पद पर हैं.(फाइल फोटो)

चंडीगढ़: हरियाणा की एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए बीजेपी प्रत्याशी लेफ्टिनेंट जनरल सेवानिवृत्त डीपी वत्स पर कांग्रेस ने लाभ के पद का आरोप लगाया है. कांग्रेस का कहना है कि उन्होंने अपने नामांकन पत्र में इस बात को छिपाया कि वह लाभ के पद पर हैं. वहीं इस आरोप को वत्स ने निराधार बताया है. आपको बता दें कि वत्स ने सोमवार (12 मार्च) को अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था. ये सीट कांग्रेस सदस्य शादी लाल बत्रा का कार्यकाल समाप्त होने की वजह से रिक्त हुई है. सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारी उच्च सदन में प्रवेश के लिये तैयार हैं, क्योंकि राज्य से खाली हुई एकमात्र सीट के लिये सिर्फ उन्होंने ही नामांकन पत्र दाखिल किया है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता करण सिंह दलाल ने कहा कि उन्होंने निर्वाचन अधिकारी के समक्ष शिकायत दर्ज कराकर वत्स का नामांकन पत्र खारिज करने की मांग की है.

ये भी पढ़ें : पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल ने बीजेपी के टिकट पर हरियाणा से राज्यसभा के लिए किया नामांकन

गुजरात में बीजेपी ने लगाए कांग्रेस के रास प्रत्याशी पर आरोप 
आपको बता दें कि गुजरात से राज्यसभा सीट के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार नारायण राठवा के नामांकन पत्र पर बीजेपी ने आपत्ति उठाई है. बीजेपी का कहना है कि राठवा का नामांकन नियमानुसार नहीं भरा गया और उसके साथ कई जरूरी दस्तावेज भी जमा नहीं किए गए हैं. बीजेपी ने राठवा का नामांकन रद्द करने की मांग करते हुए चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया है. केंद्रीय मंत्री एमए नकवी तथा बीजेपी सांसद भूपेंद्र सिंह यादव ने मंगलवार को इस सिलसिले में चुनाव आयोग भी गए.

ये भी पढ़ें : राज्यसभा चुनाव : कांग्रेस के नारायण राठवा के नामांकन पर BJP ने उठाए सवाल, EC में दर्ज कराई शिकायत

वहीं नारायणाभाई राठवा ने बीजेपी के आरोपों पर कहा कि उन्होंने सोचा था कि उनका फार्म आसानी से जमा हो जाएगा. जरूरत के हिसाब से सभी दस्तावेज लगाकर उन्होंने अपना नामांकन जमा किया था. लेकिन बीजेपी के नेताओं ने झूठ बोलकर बखेड़ा खड़ा किया और उनका नामांकन रोकने की कोशिश की. इस चक्कर में छह घंटे बाद निर्वाचन अधिकारी ने उनका फार्म जमा कर लिया.