पीरिएड को लेकर चल रहे मिथकों के खिलाफ मनाया गया विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस

देश की राजधानी दिल्ली में आज विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस (World Menstrual Hygiene Day) मनाया गया. इस मौके पर दिल्ली के कनॉट प्लेस में हजारों लोग जुटे. इस कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ एनजीओ आकार और एनजीओ सच्ची सहेली के प्रयास से किया गया. इसका उद्देश्य पीरिएड को लेकर युवतियों और युवाओं में जागरूकता लाना था.

ज़ी न्यूज़ डेस्क ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: May 28, 2017, 08:53 PM IST
पीरिएड को लेकर चल रहे मिथकों के खिलाफ मनाया गया विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में आज विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस (World Menstrual Hygiene Day) मनाया गया. इस मौके पर दिल्ली के कनॉट प्लेस में हजारों लोग जुटे. इस कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ एनजीओ आकार और एनजीओ सच्ची सहेली के प्रयास से किया गया. इसका उद्देश्य पीरिएड को लेकर युवतियों और युवाओं में जागरूकता लाना था.

मानव शृंखला बनाकर महिलाओं के समर्थन और स्वच्छता को लेकर आवाजें उठाई गईं. मासिक धर्म स्वच्छता को लेकर जागरूकता के लिए पूरे कनॉट प्लेस में उत्सव का माहौल हो गया था. स्कूली बच्चों ने कार्यक्रम प्रस्तुत किए. नुकड़ नाटक, स्पॉट पेंटिंग, हैंडप्रिंट, पतंग उड़ाकर, बलून उड़ाकर इस दिवस को मनाया. 

विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस का सेलिब्रेशन वर्ष 2014 में शुरू हुआ. यह दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं और युवतियों को मासिक धर्म स्वच्छता मैनेजमेंट के बारे में जागरूक करना है. मासिक धर्म हेल्थ में सुधार के लिए यह अभियान चला जा रहा है.

दिल्ली मेडिकल काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. अरुण गुप्ता ने मासिक धर्म और बच्चे के जन्म की प्रक्रिया के बीच संबंध को बताया. सच्ची सहेली की फाउंडर डॉ. सुभी सिंह ने कहा, हम चाहते हैं मासिक धर्म को लेकर मिथक और वर्जनाएं वैज्ञानिक तरीके से खत्म हो. हम चाहते हैं हर लड़की इस पर शर्म से नहीं विश्वास से साथ चर्चा करे.