इंडियन मुजाहिदीन का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी गिरफ्तार, बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद से था फरार

जुनैद 2008 की बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद से ही फरार था. पुलिस ने उसपर 15 लाख रुपए का ईनाम भी रखा था.

ज़ी न्यूज़ डेस्क ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Feb 14, 2018, 04:39 PM IST
इंडियन मुजाहिदीन का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी गिरफ्तार, बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद से था फरार

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने इंडियन मुजाहिदीन के एक मोस्ट वॉन्टेड संदिग्ध आतंकी जुनैद को गिरफ्तार कर लिया है. जुनैद 2008 की बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद से ही फरार था. पुलिस ने उसपर 15 लाख रुपए का ईनाम भी रखा था.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इंडियन मुजाहिद्दीन के इस संदिग्ध आतंकी को भारत- नेपाल बार्डर से गिरफ्तार किया है. इसका नाम जुनैद के अलावा आरिज भी बताया जा रहा है. वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अरिज खान को दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने गिरफ्तार किया. उन्होंने बताया कि मूल रूप से जुनैद उर्फ आरिज यूपी के आजमगढ़ का रहने वाला है. एनआईए की टीम और अन्य जांच एजेंसियां लगातार उससे पूछताछ कर रही हैं.

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पकड़ा गया आतंकी आरिज उर्फ जुनैद दिल्ली, अहमदाबाद, यूपी और जयपुर में हुए धमाकों में शामिल रहा है. उसके सिर पर NIA की तरफ से 10 लाख का ईनाम था और इसी तरह दिल्ली पुलिस ने उसके सिर पर 5 लाख का ईनाम घोषित कर रखा था.

यह भी पढ़ें: दिल्ली सीरियल ब्लास्ट 2008: यासीन भटकल के खिलाफ कोर्ट ने तय किए आरोप

बाटला हाउस एनकाउंट के बाद से फरार था आतंकी
आपको बता दें कि 19 सितंबर 2008 को दिल्ली के जामिया नगर स्थित बाटला हाउस में हुई मुठभेड़ में चार अन्य लोगों के साथ जुनैद भी मौजूद था. मुठभेड़ के दौरान वह वहां से भाग निकला था. हालांकि इस घटना में इंडियन मुजाहिदीन के दो आतंकवादी मारे गए थे और कई को गिरफ्तार किया गया था. अभियान के दौरान पुलिस कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे एन्काउंटर स्पेशलिस्ट और निरीक्षक मोहन चंद शर्मा शहीद हो गए थे. 

​बाटला हाउस मामले में IM के आतंकी को उम्रकैद 
बाटला हाउस मामले में निचली अदालत ने वर्ष 2013 में इंडियन मुजाहिदीन (आईएम) के आतंकवादी शहजाद अहमद को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. निचली अदालत के फैसले के खिलाफ उसकी याचिका उच्च अदालत में लंबित है.