Exclusive: अंडरवर्ल्ड में दाऊद की लेडीज़ विंग, निशाने पर नामचीन महिलाएं

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पैसों की लालच के चलते खुद दाऊद ने ही अंडरवर्ल्ड के सभी नियम भुला दिए हैं और डॉन की डी कंपनी अब महिलाओं से भी पैसे उगाही करने लगी है.

Updated: Dec 7, 2017, 08:45 PM IST
Exclusive: अंडरवर्ल्ड में दाऊद की लेडीज़ विंग, निशाने पर नामचीन महिलाएं
हाल ही में इंटरसेप्ट किए गए कुछ कॉल से जांच एजेंसी को "क्वीन" और "बेगम" कोड वर्ड का पता चला है...(फाइल फोटो)

राकेश त्रिवेदी. मुंबई: जी हां, अंडरवर्ल्ड की दुनिया में जुर्म का अंधेरा भले ही कितना ही घना क्यों न हो लेकिन अपराध की इस दुनिया में गैरकानूनी काम भी कुछ उसूलों के साथ किए जाते हैं. जैसे धंधे में बेईमानी नहीं, दुश्मन के परिवार को हाथ नहीं लगाते, महिला और बच्चों को नहीं धमकाते. मतलब साफ है कि हिसाब-किताब सिर्फ दुश्मन से ही किया जाता है, उसके परिवार के साथ नहीं. मान लीजिए कि छोटा राजन, दाऊद का कितना ही बड़ा दुश्मन क्यों न हो लेकिन डी कंपनी की क्या मजाल कि वह मुंबई के चेंबूर इलाके में रहने वाले राजन के परिवार को हाथ तक लगाए. लेकिन पुलिस सूत्रों के मुताबिक पैसों की लालच के चलते खुद दाऊद इब्राहिम ने ही अंडरवर्ल्ड के सभी नियम भुला दिए हैं और डॉन की डी कंपनी अब महिलाओं से भी पैसे उगाही करने लगी है. 

सूत्रों की अगर माने तो डी कंपनी ने एक खास लेडीज़ विंग भी तैयार की है जिसके गुर्गे अपने टारगेट की आर्थिक स्थिति से जुड़ी हर टिप अपने आका को देते हैं. इसके अलावा उद्योग जगत में सफल और नामचीन महिलाओं से एक्सटॉर्शन करने की जिम्मेदारी छोटा शकील ने उस्मान नाम के एक शख्स को सौंपी है. सूत्रों के मुताबिक हाल ही में इंटरसेप्ट किए गए कुछ कॉल से जांच एजेंसी को यह भी पता चला है की महिला ब्रिगेड के गैंग मेंबर्स आपस में बातचीत के दौरान महिला टारगेट के लिए कोड वर्ड का इस्तेमाल करते हैं और यह कोड वर्ड है - "क्वीन" और "बेगम".

रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी पी.के. जैन ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "यह डिटेल्स बड़ी शॉकिंग है. मैंने अपने कार्यकाल के दौरान ऐसा कभी नहीं सुना था. इसकी एक वजह दाऊद की डेस्परैशिन हो सकती है. हाल ही में मुंबई की खार पुलिस ने एक महिला उद्योगपति की शिकायत पर दाऊद और छोटा शकील बैंक के सदस्यों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की.

FIR

शिकायत के मुताबिक छोटा शकील के लोगों ने इस महिला से 1 करोड़ रूपए की फिरौती की मांग की और यह पैसे नहीं चुकाने पर उसे जान से मारने की धमकी तक दी. बहरहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और तफ्तीश में जुट चुकी है. मुंबई पुलिस के डीसीपी दीपक देवराज ने बताया कि हमने इन इन धाराओं के तहत यह केस रजिस्टर किया है.  बहरहाल भारतीय एजेंसियां अपने उसूलों के खिलाफ जुर्म को अंजाम देने वाली डी कंपनी की हर गतिविधियों पर नजर बनाए रखी हुई है.