राष्ट्रपति के कार्यक्रम में रामपाल के समर्थकों ने हंगामा किया

 कबीर महोत्सव के लिए राष्ट्रपति जैसे ही मंच पर आए, मध्यप्रदेश के विभिन्न हिस्सों से आए रामपाल के समर्थकों ने उसकी रिहाई और सीबीआई जांच की मांग को लेकर हंगामा किया. 

IANS IANS | Updated: Nov 11, 2017, 12:15 AM IST
राष्ट्रपति के कार्यक्रम में रामपाल के समर्थकों ने हंगामा किया
राष्ट्रपति कोविंद ने ज्ञापन स्वीकार कर लिया उसके बाद शांति कायम हो सकी...(फोटो साभार: ANI)

भोपाल: रामपाल के सैकड़ों समर्थकों ने शुक्रवार को यहां एक कार्यक्रम में हंगामा किया. उस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी शामिल हुए थे. स्वयंभू बाबा के समर्थक उसकी रिहाई और उसके खिलाफ लगे आरोपों की सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे. हंगामा कर रहे लोगों को शांत करने के प्रयास में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रामपाल के समर्थकों से कहा कि वे अपनी मांगों के संबंध में ज्ञापन दें. रामपाल के समर्थकों ने वहां मौजूद अधिकारियों को तुरंत ही ज्ञापन दिया जिसे उन्होंने चौहान को सौंप दिया. इसके बाद मुख्यमंत्री ने वह दस्तावेज मंच पर मौजूद कोविंद को दे दिया.

चौहान ने मंच से कहा, "लोकतंत्र में हर किसी को अपनी बात रखने का अधिकार है." कबीर महोत्सव के लिए राष्ट्रपति जैसे ही मंच पर आए, मध्यप्रदेश के विभिन्न हिस्सों से आए रामपाल के समर्थकों ने उसकी रिहाई और सीबीआई जांच की मांग को लेकर हंगामा किया. जैसे ही चौहान ने राष्ट्रपति की उपस्थिति में बोलना शुरू किया, वैसे ही लोगों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया और चौहान को उनसे शांत रहने का अनुरोध करना पड़ा.

रामपाल के एक अनुयायी राजेश नौरिया ने कहा, "रामपाल तो खुद कबीर के अनुयायी हैं तो उनके साथ इस तरह का बर्ताव क्यों किया जा रहा है. हमारे गुरू पर लगे आरोपों की सीबीआई जांच करवाई जानी चाहिए और उन्हें रिहा किया जाना चाहिए." भोपाल के जिलाधिकारी सुदम खाड़े ने कहा कि उन्हें ज्ञापन के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं है, हां इतना जरूर पता है कि उन्होंने सीबीआई जांच की मांग रखी है. जब पूछा गया कि रामपाल के इतने समर्थक कार्यक्रम स्थल लाल परेड ग्राउंड में कैसे प्रवेश कर गए, इस पर खाड़े ने पीटीआई...भाषा से कहा कि वे सभी कबीर पंथी हैं. जब कोविंद ने ज्ञापन स्वीकार कर लिया उसके बाद शांति कायम हो सकी. वर्ष 2014 में गिरफ्तार किए गए रामपाल को 29 अगस्त को हरियाणा की एक अदालत ने दो आपराधिक मामलों में बरी कर दिया था लेकिन उसके खिलाफ और भी कई मामले लंबित हैं, इसलिए वह अब भी जेल में बंद है.