साल में दो बार NEET एग्जाम कराने पर पुनर्विचार सकती है सरकार, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जताई थी चिंता

सूत्रों के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को पत्र लिखकर नीट परीक्षा साल में दो बार कराने को लेकर चिंता जताई थी. 

साल में दो बार NEET एग्जाम कराने पर पुनर्विचार सकती है सरकार, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जताई थी चिंता
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली: स्वास्थ्य मंत्रालय की सिफारिशों के बाद मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) मेडिकल की प्रवेश परीक्षा नीट साल में दो बार कराने से जुड़े अपने फैसले पर पुनर्विचार कर सकता है. सूत्रों के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को पत्र लिखकर राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) साल में दो बार कराने को लेकर चिंता जताई थी क्योंकि इससे छात्रों पर और दबाव पड़ सकता है.

मंत्रालय ने यह भी चिंता जताई थी कि केवल ऑनलाइन परीक्षा लेने पर ग्रामीण इलाकों में रहने वाले छात्र प्रभावित हो सकते हैं. एक सूत्र ने कहा, ‘हालांकि इस संबंध में अंतिम फैसला नहीं लिया गया है.’ 

पिछले महीने की थी सरकार ने घोषणा
पिछले महीने मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने नव गठित नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा साल में दो बार मेडकिल और डेंटल प्रवेश परीक्षा कराने की महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा की थी. यह परीक्षा इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले के लिए ली जाने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) - मुख्य के साथ कराई जाएंगी.

यह भी घोषणा की गई थी कि एनटीए द्वारा ली जाने वाली सभी परीक्षाएं कंप्यूटर आधारित होंगी. मंत्रालय ने परीक्षाओं के लिए संभावित तारीखों की भी घोषणा की थी जिनके अनुसार नीट फरवरी, 2019 और फिर मई, 2019 में होंगे.

(इनपुट - भाषा)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close