त्रिपुरा में बैन नहीं हो सकता बीफ, यहां हिंदू-मुस्लिम सभी खाते हैं : सुनील देवधर

बीजेपी नेता सुनील देवधर ने कहा है कि नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों में बहुसंख्यक लोग बीफ खाते हैं तो वहां की सरकार उस पर प्रतिबंध नहीं लगाएगी.

Shriram Sharma श्रीराम शर्मा | Updated: Mar 14, 2018, 05:38 AM IST
त्रिपुरा में बैन नहीं हो सकता बीफ, यहां हिंदू-मुस्लिम सभी खाते हैं : सुनील देवधर
बीजेपी नेता सुनील देवधर ने साफ कर दिया है कि त्रिपुरा में बीफ पर प्रतिबंध नहीं लगेगा (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : त्रिपुरा में बीजेपी को सत्ता में पहुंचाने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता तथा प्रदेश प्रभारी सुनील देवधर ने बीफ पर बीजेपी सरकार की नीतियों को स्पष्ट करते हुए कहा कि चूंकि पूर्वोत्तर राज्यों में बहुसंख्यक लोग बीफ खाते हैं. इसमें मुसलमान, ईसाई और हिंदू भी शामिल हैं, इसलिए इसे यहां बैन नहीं किया जा सकता है.

बीफ पर क्या बोले BJP नेता
मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए सुनील देवधर ने कहा, 'किसी राज्य में अगर बहुसंख्यक लोग नहीं चाहते हैं तो वहां की सरकार बीफ पर बैन लगाएगी. नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों में बहुसंख्यक लोग उसे खाते हैं तो वहां की सरकार उस पर प्रतिबंध नहीं लगाती.' उन्होंने कहा, 'यहां पर ज्यादातर मुस्लिम और ईसाई हैं. कुछ हिंदू ऐसे भी हैं जो ये मांस (बीफ) खाते हैं, तो मुझे ऐसा लगता है कि उस पर कोई बैन नहीं होना चाहिए, इसलिए वहां बैन नहीं है.' 

त्रिपुरा में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से देश की राजनीति में यह सवाल उछल रहा है कि क्या अब बीजेपी त्रिपुरा में बीफ पर रोक लगाएगी, क्योंकि उत्तर भारत के राज्यों में बीजेपी ने बीफ को प्रतिबंध किया हुआ है.

सेप्टिक टैंक साफ कराने की दी थी सलाह
इससे पहले सुनील देवधर ने त्रिपुरा केमुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब को सुझाव दिया था कि सरकारी आवास में जाने से पहले वह अपने आवास का सेप्टिक टैंक जरूर साफ करवा लें. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री के साथ अन्य मंत्री भी सरकारी बंगलों के सेप्टिक टैंक जरूर साफ करवा लें. उन्होंने कहा था कि 2005 में मणिक सरकार के सरकारी आवास के सेप्टिक टैंक से एक महिला का कंकाल मिला था. 

JNU समेत पूरा भारत जल्द होगा कम्युनिस्ट मुक्त, त्रिपुरा में बीजेपी नेता का ऐलान

वाम शासन को खत्म कर बीजेपी आई सत्ता में
बता दें कि त्रिपुरा में 25 साल के वाम शासन को खत्म करके बीजेपी पहली बार सत्ता में आई है. बीजेपी ने यहां आईपीएफटी के सहयोग से सरकार बनाई है. 60 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी गठबंधन ने 43 सीटें जीती थीं. इसमें से भाजपा ने 35 और आईपीएफटी ने आठ सीटों पर जीत दर्ज की थी. बीजेपी के अध्‍यक्ष बिप्‍लव देब यहां के मुख्‍यमंत्री और जिष्‍णु देव वर्मा को उप मुख्‍यमंत्री बनाया गया.