मध्य प्रदेश : शिवरात्रि पर प्रसाद खाने से 1500 लोग बीमार, मदद के लिए बुलानी पड़ी सेना

मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले के एक गांव में शिवरात्रि पर प्रसाद खाने से 15 सौ लोग बीमार पड़ गए. बीमारों को जिला अस्पताल समेत अन्य निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया.

मध्य प्रदेश : शिवरात्रि पर प्रसाद खाने से 1500 लोग बीमार, मदद के लिए बुलानी पड़ी सेना
बड़वानी जिले के एक गांव के आश्रम में मनाया गया शिवरात्रि उत्सव

भोपाल : मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले के एक गांव में शिवरात्रि पर प्रसाद खाने से 15 सौ लोग बीमार पड़ गए. बीमारों को जिला अस्पताल समेत अन्य निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. जिला प्रशासन ने मामले की जांच शुरू कर दी है.

आश्रम में शिवरात्रि उत्सव
मंगलवार को देशभर में शिवरात्रि का पर्व पूरे धार्मिक उल्लास के साथ मनाया जा रहा था. बड़वानी जिले के एक गांव के एक आश्रम में शिवरात्रि के मौक पर एक बड़ी पूजा का आयोजन किया गया था. पूजा-अर्चना के बाद प्रसाद में खिचड़ी का वितरण किया गया. इस समारोह में करीब 2 हजार लोग जुटे थे.

उत्तर प्रदेश : बाराबंकी में जहरीला खाना खाने से 9 लोगों की मौत, कई की हालत गंभीर 

प्रसाद में बांटी गई खिचड़ी
वहां मौजूद लोगों ने जैसे ही प्रसाद में खिचड़ी का सेवन किया उसके कुछ ही देर बाद लोगों को उल्टी और पेट दर्द की शिकायत होने लगी. देखते ही देखते पूरे आश्रम में हलचल मच गई. बच्चे और महिलाएं दर्द के मारे चिल्लाने लगीं. स्थानीय प्रशासन को जैसे ही घटना की खबर मिली, तुरंत सभी लोगों को जिले के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया. करीब 1500 लोगों ने यह प्रसाद खाया था. जिला अस्पातल में लोगों की लंबी लाइन लग गई. मौके पर पहुंचे जिलाधिकारी तेजस्वी नायक ने निजी अस्पतालों में भी मरीजों के उपचार की व्यवस्था की.

सेना ने मरीजों को भर्ती कराया अस्पतालों में
जिलाधिकारी ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में लोग एकसाथ बीमार हुए कि स्थिति को कंट्रोल करना मुश्किल था, लेकिन पूरा प्रशासन इस काम में जुट गया. तमाम निजी अस्पतालों की सेवाएं भी ली गईं. उन्होंने बताया कि इस हादसे में किसी तरह कोई दुर्घटना नहीं हुई है. अब स्थिति नियंत्रण में है. उन्होंने बताया कि लोगों को अस्पताल पहुंचाने में सेना की मदद ली गई. जिलाधिकारी ने बताया कि प्रसाद का नमूना लेकर जांच के लिए भेज दिया गया है. जांच की जा रही है कि इस घटना के पीछे किसी की कोई साजिश तो नहीं थी.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close