छत्तीसगढ़ः आत्मसमर्पित नक्सली की धारदार हथियार से हत्या

नक्सलियों ने उसे ऐसा करने से मना भी किया था, लेकिन पोदीया ने इन सब के खिलाफ जाते हुए आत्मसमर्पण कर दिया. जिसके बाद नाराज नक्सलियों ने उसके आत्मसमर्पण करने के बाद ही उसे मौत के घाट उतार दिया.

छत्तीसगढ़ः आत्मसमर्पित नक्सली की धारदार हथियार से हत्या
फोटो साभारः ANI

नई दिल्ली/दंतेवाड़ाः छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में मंगलवार-बुधवार को देर रात गांव वालों की वेशभूषा में आए नक्सलियों ने एक आत्मसमर्पित नक्सली की हत्या कर दी. घटना दंतेवाड़ा के किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलानार की है. जहां 30 से 40 की संख्या में ग्रामीणों की वेश भूषा में पहुंचे नक्सलियों ने एक आत्मसमर्पित नक्सली पर धारदार हथियार से हमला कर दिया और घटना को अंजाम देने के बाद सभी नक्सली फरार हो गए. मिली जानकारी के मुताबिक यह नक्सली दल पोदीया बड्डे नाम के नक्सली से उसके आत्मसमर्पण करने से नाराज था. पूर्व नक्सली भी पहले इसी दल का हिस्सा था. नक्सलियों ने उसे आत्मसमर्पण करने से मना भी किया था, लेकिन पोदीया ने इन सब के खिलाफ जाते हुए आत्मसमर्पण कर दिया. जिसके बाद नाराज नक्सलियों ने उसे मौत के घाट उतार दिया.
Chhattisgarh: Maoists kill the surrender Naxali with sharp weapons

अज्ञात नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज
बता दें मृतक चोलनार का रहने वाला है. घटना उस वक्त की है जब पूर्व नक्सली घर में था और सोने की तैयारी कर रहा था. तभी घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने उसे पकड़ लिया और गांव से कुछ दूर पेरपा गायत्री आश्रम के पास ले गए और उसकी धारदार हथियार से हत्या कर दी. पूर्व नक्सली की हत्या करने के बाद नक्सलियों ने लाश के पास कुछ पर्चे भी छोड़े और वहां से फरार हो गए. कुछ देर बात घटना स्थल के पास से गुजर रहे ग्रामीणों ने पोदीया की लाश देखी और उसके परिजनों को इसकी सूचना दी. जिसके बाद मतृक के परिजनों ने पुलिस को इसकी सूचना दी. पुलिस ने अज्ञात नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

4 दिन पहले किया था आत्मसमर्पण
बता दें पूर्व नक्सली ने 4 दिन पहले ही आत्मसमर्पण किया था. जिसके चलते नक्सली उससे नाराज थे. मृतक के आत्मसमर्पण करने से पहले भी नक्सलियों ने उसे चेतावनी दी थी, लेकिन नक्सलवाद छोड़ मुख्यधारा में लौटने का उसका फैसला बदला नहीं और उसने नक्सलवाद का रास्ता छोड़ दिया. पोदीया के नक्सलवाद छोड़ने के बाद से ही नक्सली उसके घर पर घात लगाकर बैठे थे. ऐसे में जैसे ही नक्सलियों ने उसे अकेला देखा, उसे पकड़कर एक सुनसान इलाके में ले गए और उसकी हत्या कर दी.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close