मध्य प्रदेश के इन जिलों में जोरदार बारिश, निचले इलाकों में भरा पानी

निकासी के पुख्ता इंतजाम न होने के कारण  निचले इलाकों में पानी भर गाय है. जिससे लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश देखने को मिल रहा है.

मध्य प्रदेश के इन जिलों में जोरदार बारिश, निचले इलाकों में भरा पानी
राजधानी भोपाल में पिछले चार दिनों से हो रही है बारिश

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के कई जिलों में बारिश के चलते कई नदियां उफान पर हैं. जिससे निचले इलाकों में पानी भरने से बाढ़ जैसे हालात बनते जा रहे हैं. बता दें मध्य प्रदेश के दमोह, शिवपुरी, अशोकनगर और श्योपुर में भारी बारिश से जनजीवन काफी प्रभावित हो रहा है. पिछले दो दिनों से हो रही लगातार बारिश से शिवपुरी में अफरा-तफरी का माहौल बन गया है. निचले इलाकों के लोगों को शरणार्थी शिविर में आसरा लेना पड़ रहा है. वहीं कोलारस में शुक्रवार से हो रही बारिश के कारण तालाब फूट गया है. जिससे पूरे इलाके में तालाब जैसे हालात बन गए हैं.

मप्रः सागर में भारी बारिश से लबालब भरी सड़कें, रेलवे ट्रैक हुआ जलमग्न

तेंदूखेड़ा में बिगड़े हालात
बता दें दमोह में भी पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिससे जिला मुख्यालय पर सड़कें नालों में तब्दील हो गई हैं. वहीं अधिकांश रिहायशी इलाकों में पानी घरों में घुस रहा है, जिससे कइयों की गृहस्थी बरबाद हो गई है. इसी बीच जिले के तेंदूखेड़ा में भी बारिश का कहर जारी है. तेंदूखेड़ा के अधिकांश वार्डों में पानी है. वहीं घरों में रखा राशन पानी में डूब जाने से खाने के भी लाले पड़ गए हैं. मौके पर पहुंचे विधायक ने हालात देखे तो उन्होंने भी प्रशासन को खरी खोटी सुनाई और पीड़ितों की मांग को जायज बताते हुए अधिकारीयों को निर्देश दिए की पानी निकासी के इंतज़ाम किये जाए.

VIDEO: भोपाल में मानसून की दस्तक, हल्की बारिश से मौसम हुआ सुहाना

राजधानी में पानी निकासी के पुख्ता इंतजाम नहीं
गुना में तेज बारिश के चलते सीप नदी भी उफान पर है. वहीं गुना के प्रसिद्ध गुप्तेश्वर मंदिर के चारों ओर पानी भर जाने से मंदिर आने-जाने का रास्ता भी बंद है. जिससे तीन लोग मंदिर में ही फंस गए हैं. मंदिर में फंसे लोगों के रेस्क्यू ऑपरेशन की तैयारी शुरू कर दी गई है. वहीं भोपाल में लगातार चार दिनों से हो रही बारिश से लोगों की परेशानियां बढ़ गई हैं. निकासी के पुख्ता इंतजाम न होने के कारण  निचले इलाकों में पानी भर गाय है. जिससे लोगों में प्रशासन के प्रति आक्रोश देखने को मिल रहा है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close