मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : कांग्रेस ने जारी की 29 प्रत्याशियों की चौथी लिस्ट

कुल मिलाकर अब तक 213 सीटों पर उम्मीदवारों का फैसला हो चुका है. कांग्रेस ने शिवराज सिंह के साले संजय सिंह वारासिवनी सीट से मैदान में खड़ा किया है.

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : कांग्रेस ने जारी की 29 प्रत्याशियों की चौथी लिस्ट
इससे पहले 5 नवंबर को तीसरी लिस्ट में 13 उम्मीदवारों की घोषणा की गई थी.

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने प्रत्याशियों की चौथी लिस्ट जारी कर दी है. चौथी लिस्ट में 29 प्रत्याशियों का ऐलान किया गया है. इससे पहले 5 नवंबर को तीसरी लिस्ट जारी की गई थी. तीसरी लिस्ट में 13 प्रत्याशियों की घोषणा की गई थी. दूसरे लिस्ट में 16 और पहले लिस्ट में 155 प्रत्याशियों की घोषणा की गई थी. कुल मिलाकर अब तक 213 सीटों पर उम्मीदवारों का फैसला हो चुका है. मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 सीटें हैं. कांग्रेस ने शिवराज सिंह के साले संजय सिंह वारासिवनी सीट से मैदान में खड़ा किया है.

दूसरी लिस्ट में पार्टी ने नये चेहरे सिद्धार्थ लाडा (36) को शिवपुरी जिले की शिवपुरी विधानसभा सीट से टिकट दिया है. उनका मुख्य मुकाबला मध्यप्रदेश की मंत्री एवं पूर्व ग्वालियर राजघराने की वंशज यशोधरा राजे सिंधिया (भाजपा) से होगा. वहीं, कांग्रेस ने महेन्द्र सिंह चौहान को प्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग के खिलाफ भोपाल की नरेला सीट से मैदान में उतारा है. महेन्द्र वर्ष 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ सीहोर की बुधनी सीट से मैदान में थे और बड़े अंतर से हार गए थे.

 

 

कांग्रेस ने राजेन्द्र भारती को मध्यप्रदेश के जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा के खिलाफ दतिया जिले की दतिया सीट चुनावी अखाड़े में दोबारा उतारा है. पिछले चुनाव में मिश्रा ने उन्हें हरा दिया था. इनके अलावा, कांग्रेस ने अपनी दूसरी सूची में सबलगढ़ से बैजनाथ कुशवाहा, गुना से चंद्र प्रकाश अहिरवार, सीधी से कमलेश्वर प्रसाद द्विवेदी, देवसर से रामभजन साकेत, आमला से मनोज मालवी, ब्यावरा से गोवर्धन डांगी, अलीराजपुर से मुकेश पटेल एवं पेटलावद से वेलसिंह मेदा को अपना उम्मीदवार बनाया है.

 

 

मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को 230 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होगा. इन दोनों सूची में मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ एवं प्रदेश कांग्रेस चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम नहीं हैं. माना जा रहा है कि यदि मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने वापसी की तो ये दोनों ही मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदार हैं.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close