LIVE: डॉक्टर कलाम का अंतिम संस्कार गुरुवार को रामेश्वरम में होगा, श्रद्धांजलि देने के लिए लगा तांता

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का पार्थि‍व शरीर मंगलवार दोपहर वायुसेना के विमान से दिल्ली लाया गया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉक्टर कलाम को श्रद्धांजलि दी। साथ ही तीनों सेनाओं के प्रमुख, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी , दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर सहित कई गणमान्य लोगों ने कलाम को श्रद्धांजलि दी।

LIVE: डॉक्टर कलाम का अंतिम संस्कार गुरुवार को रामेश्वरम में होगा, श्रद्धांजलि देने के लिए लगा तांता
Play

नई दिल्ली : पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का पार्थि‍व शरीर मंगलवार दोपहर वायुसेना के विमान से दिल्ली लाया गया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉक्टर कलाम को श्रद्धांजलि दी। साथ ही तीनों सेनाओं के प्रमुख, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी , दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर सहित कई गणमान्य लोगों ने कलाम को श्रद्धांजलि दी। डॉ. कलाम के पार्थि‍व शरीर को तिरंगे में पूरे सम्मान के साथ लपेटा गया था। सुरक्षा बलों ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ कलाम के पार्थिव शरीर को विमान से उतारा। 

पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा की कार्यवाही आज और कल के लिए स्थगित कर दी गई। साथ ही राज्यसभा की कार्यवाही भी दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। कलाम को श्रद्धांजलि देने के लिए दोनों सदनों में दो मिनट का मौन रखा गया। पूर्व राष्ट्रपति कलाम का अंतिम संस्कार तमिलनाडु के रामेश्वरम में गुरुवार यानी 30 जुलाई को किया जाएगा।

डॉक्टर कलाम के पार्थिव शरीर को पालम हवाईअड्डे पर लाए जाने के समय वहां प्रधानमंत्री मोदी, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और तीनों सेवाओं के प्रमुखों उपस्थित थे। वहां उन्हें तीनों सेवाओं का गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। मंत्रिमंडल ने सरकार और पूरे देश की ओर से शोकाकुल परिवार के प्रति गहरी संवेदनाएं प्रकट कीं। प्रस्ताव में सरकार ने कहा कि कलाम में तकनीक के जरिए समाज में सुधार लाने का भारी जुनून था। वह विशेष तौर पर भारत के युवाओं को मानव कल्याण की दिशा में विज्ञान एवं तकनीक के उपयोग के लिए प्रेरित करके ऐसा करना चाहते थे। प्रस्ताव में कहा गया, ‘कलाम ने भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण वाहन विकसित करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया और भारत को ‘स्पेस क्लब’ का एक विशेष सदस्य बनाया।’

लाइव अपडेट्स

- गुरुवार को रामेश्वरम में होगा डॉक्टर कलाम का अंतिम संस्कार।

- आम लोग चार बजे से कर सकेंगे कलाम के अंतिम दर्शन।

-सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने कलाम कलाम को श्रद्धांजलि दी।

- प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कलाम के सरकारी आवास पर कलाम को श्रद्धांजलि दी।

 -दिल्ली के राजाजी मार्ग पर शाम चार बजे से अब अंतिम दर्शन होगा।

-राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कलाम को श्रद्धांजलि दी।

- उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कलाम को श्रद्धांजलि दी।

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति कलाम को श्रद्धांजलि दी।

 - रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कलाम को श्रद्धांजलि दी।

-दिल्ली एयरपोर्ट पर तीनों सेनाओं के प्रमुख, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजेरीवाल, दिल्ली के एलजी नजीब जंग  दिल्ली पुलिस कमिश्नर समेत कई लोगों ने श्रद्धांजलि दी।

-रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी मौजूद।  

- एयरपोर्ट पर तीनों सेनाध्यक्ष मौजूद।

- वायुसेना के विशेष विमान से दिल्ली लाया गया।

-  कलाम के पार्थिव शरीर को दिल्ली एयरपोर्ट लाया गया।

- डॉक्टर कलाम का अंतिम संस्कार रामेश्वरम में कल होगा।

- पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम के परिवार के सदस्यों के अनुरोध पर उनका अंतिम संस्कार तमिलनाडु के रामेश्वरम में किया जाएगा।

-पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि देने के बाद राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित।

- पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि देने के बाद लोकसभा की कार्यवाही आज और कल के लिए स्थगित।

-दोनों सदन (लोकसभा और राज्यसभा) श्रद्धांजलि देने के बाद 30 जुलाई तक स्थगित।

-संसद ने डॉक्टर कलाम को श्रद्धांजलि दी, राज्यसभा और लोकसभा में श्रद्धांजलि दी गई।

-संसद के दोनों सदनों में आज दी जाएगी श्रद्धांजलि।

- आज दिल्ली लाया जाएगा कलाम का पार्थिव शरीर।

-सरकारी ऑफिसों में छुट्टी की घोषणा नहीं

- देश में सात दिनों का राष्ट्रीय शोक घोषित।

'मिसाइल मैन' और 'जनता के राष्ट्रपति' के रूप में लोकप्रिय हुए पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का सोमवार शाम आईआईएम में एक व्याख्यान देने के दौरान गिरने के बाद निधन हो गया था। डॉ. कलाम को शाम करीब साढ़े छह बजे व्याख्यान के दौरान गिरने के बाद नाजुक हालत में बेथनी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया और उसके दो घंटे से अधिक समय बाद उनके निधन की पुष्टि की गई। डॉ. कलाम अक्तूबर में 84 साल के होने वाले थे।

देश के सर्वाधिक लोकप्रिय राष्ट्रपति माने जाने वाले कलाम ने 18 जुलाई 2002 को देश के 11वें राष्ट्रपति के रूप में पदभार संभाला, लेकिन राष्ट्रपति पद पर दूसरे कार्यकाल के लिए उनके नाम पर सर्वसम्मति नहीं बन सकी। वह राजनीतिक गलियारों से बाहर के राष्ट्रपति थे। कलाम को अस्पताल में भर्ती कराए जाने की खबर मिलने के तुरंत बाद अस्पताल पहुंचे मेघालय के राज्यपाल वी षणमुगम ने बताया कि कलाम ने शाम सात बजकर 45 मिनट पर अंतिम सांस ली। डॉक्टरों की अथाह कोशिशों के बावजूद उन्हें नहीं बचाया जा सका।

साल 1931 में रामेश्वरम के करीब पैदा हुए अब्दुल कलाम ने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एयरोनॉटिक्स की पढ़ाई की थी, उन्हें 1997 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। मिसाइल मैन के नाम से मशहूर रहे कलाम लंबे समय तक डीआरडीओ और इसरो के साथ जुड़े रहे। देश की रॉकेट और मिसाइल टेक्नोलॉजी के वे महारथी माने जाते रहे और देश की मिसाइल प्रणाली के विकास में उनके योगदान को खास तौर से देखा जाता है।

एपीजे कलाम बच्चों में भी खासे लोकप्रिय थे और आखिरी समय तक पढ़ने पढ़ाने से लगाव रहा। इसे संयोग ही कहा जाएगा कि अपने आखिरी लम्हें भी उन्होंने छात्रों के बीच ही गुजारा। राष्ट्रपति बनने से पहले कलाम को दुनिया भर में मिसाइल मैन के रूप में जाना जाता था। 25 जुलाई कलाम 2002 में भारत के राष्ट्रपति बने। 11वें राष्ट्रपति के रूप में उनका कार्यकाल 2007 तक रहा। भारत की मिसाइल तकनीक को विकसित करने में कलाम का अहम योगदान माना जाता है। कलाम चार दशक तक डीआरडीओ में वैज्ञानिक थे।

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close