जम्मू-कश्मीर : उरी सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी, भारत ने तबाह किए कई PAK बंकर

कड़ी चेतावनी के बाद भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर सीजफायर का उल्लंघन करते हुए भारतीय सीमा पर गोलीबारी की.

Shriram Sharma श्रीराम शर्मा | Updated: Jan 12, 2018, 11:59 AM IST
 जम्मू-कश्मीर : उरी सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी, भारत ने तबाह किए कई PAK बंकर
उरी सेक्टर में पाकिस्तान द्वारा की जा रही गोलीबारी का भारतीय सेना ने कड़ा जवाब दिया है

नई दिल्ली : गुरुवार की सुबह कश्मीर के उरी सैक्टर में सीमा रेखा के पास पाकिस्तान ने एक बार फिर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की. भारतीय सेना ने गोलीबारी की कड़ा जवाब देते हुए पाकिस्तान पर हमला किया और इस हमले में पाकिस्तान की कई चौकियों के तबाह होने की खबर है. फायरिंग अभी भी जारी है. हालांकि अभी तक इस गोलीबारी में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं मिली है. पाकिस्तानी सेना लगातार बिना किसी उकसावे के भारतीय सीमा पर गोलीबारी करती रहती है. इस गोलीबारी की आड़ में पाकिस्तान आतंकवादियों की भारत में घुसपैठ कराता है. 

सेना के एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने गुरुवार की शाम उरी सेक्टर के कमलकोट इलाके में बिना उकसावे के गोलीबारी शरू कर दी. भारतीय सेना ने संघर्ष विराम उल्लंघन की इस कार्रवाई का मुंह तोड़ जवाब दिया. अधिकारी ने बताया कि आधी रात के बाद दो बजे गोलीबारी थोड़ी थमी लेकिन पाकिस्तानी सैनिकों ने सुबह होते ही फिर गोलीबारी शुरू कर दी.

पाकिस्तान लगातार करता है सीजफायर का उल्लंघन
बीते 5 नवंबर को बारामूला जिले के उरी सेक्टर में सेना और सुरक्षाबलों के जवानों आतंकी घुसपैठ की बड़ी कोशिश को नाकाम किया था. इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने घुसपैठ की कोशिश कर रहे दो आतंकियों को मार गिराया था. बताया जा रहा है कि आतंकियों ने सेना पर फायरिंग की, जिसके बाद सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई में दो आतंकियों को ढेर कर दिया. मारे गए आतंकी पाकिस्तानी सेना की बॉर्डर एक्शन टीम यानि (BAT) के थे. इससे पहले जून में भी सेना ने उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के समीप पिछले तीन दिन में घुसपैठ की पांचवीं कोशिश को विफल करते हुए छह आतंकवादियों को मार गिराया था. सेना ने पिछले कुछ दिनों में 16 आतंकियों को ढेर किया था.

अगस्त महीने में पाकिस्तानी सेना द्वारा की गई गोलीबारी में एक महिला गंभीर रूप से जख्मी हो गई थी. 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के दो स्थानों पर गोलीबारी की जिससे एक महिला घायल हो गई. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि नियंत्रण रेखा के उस पार से की गई गोलीबारी में हनीफा बेगम नामक महिला घायल हो गई. पाकिस्तानी सैनिकों ने उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर लगातार तीसरे दिन संघर्ष विराम का उल्लंघन किया.

यह भी पढ़ें- पाकिस्तानी बंदूक में 'चीनी बुलेट' बनी भारतीय जवानों के लिए जानलेवा, गृह मंत्रालय ने किया खुलासा

31 दिसंबर को CRPF कैंप पर हमला
पुलवामा जिले में आतंकियों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कैंप पर हमला कर दिया था. आतंकियों ने सीआरपीएफ की 185 बटालियन की सीमा में घुसकर ग्रेनेड फेंका और आग लगा दी. इस हमले में 7 जवान घायल हुए जिनमें 5 जवानों की उपचार के दौरान मौत हो गई. जवाबी कार्रवाई में सेना ने 3 आतंकियों को मार गिराया था. यह घटना शनिवार देर रात करीब 2.30 बजे की थी. 

सबसे बड़ा उरी हमला
18 सितम्बर, 2016 को जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास स्थित भारतीय सेना के स्थानीय मुख्यालय पर आतंकी हमला हुआ था. इस हमले में 18 जवान शहीद हुए थे. सैन्य बलों की कार्रवाई में सभी चार आतंकी मारे गए. यह भारतीय सेना पर किया गया, लगभग 20 सालों में सबसे बड़ा हमला था. एक योजना के तहत ही सेना के कैंप पर फिदायीन हमला किया गया. हमलावरों के द्वारा निहत्थे और सोते हुए जवानों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की गई.

पिछले साल तीन गुना ज्यादा सीजफायर Violence
बीते साल पाकिस्तान की तरफ से तीन गुना ज्यादा संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया. 2016 में 228 बार पाकिस्तानी सेना ने बिना किसी कारण के गोलीबारी की तो इस साल उसके हौसले और ज्यादा बढ़ गए. 2017 में 871 बार सीज फायर का उल्लंघन किया गया.