प्रद्युम्‍न मर्डर केस: सीबीआई ने कहा, जुर्म कबूल करो नहीं तो भाई को मार देंगे- आरोपी

बाल सुरक्षा अधिकारी ने जब एकांत में आरोपी से बात की तो आरोपी ने कहा कि सीबीआई ने उसका टॉचर किया है और धमकाया है. उसने प्रद्युम्‍न की हत्‍या नहीं की. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Nov 14, 2017, 10:16 AM IST
प्रद्युम्‍न मर्डर केस: सीबीआई ने कहा, जुर्म कबूल करो नहीं तो भाई को मार देंगे- आरोपी
आठ सितंबर को रायन स्‍कूल में प्रद्युम्‍न का मर्डर हुआ.(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: प्रद्युम्‍न मर्डर केस के आरोपी छात्र ने सीबीआई पर आरोप लगाते हुए कहा कि उससे इस एजेंसी ने जबर्दस्‍ती जुर्म कबूल करवाया है. गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्‍कूल में पढ़ने वाले 11वीं के आरोपी छात्र ने बाल सुरक्षा अधिकारी के सामने बयान देते हुए कहा कि सीबीआई ने उसे धमकाते हुए कहा था कि जुर्म कबूल कर लो, नहीं तो तेरे भाई का मर्डर कर देंगे. आरोपी ने कहा कि वह दरअसल अपने भाई से बहुत प्रेम करता है और किसी भी सूरत में उसको मरते हुए नहीं देख सकता. इसलिए इस तरह के दबाव के द्वारा उस जुर्म को कबूल करवाया गया जोकि उसने किया ही नहीं है. 

दैनिक भास्‍कर की रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार को आरोपी की काउंसिलिंग और बयान लेने के लिए बाल सुरक्षा और संरक्षण अधिकारी जब पहुंचीं तो आरोपी ने कहा कि जब सीबीआई ने भाई के मर्डर की धमकी दी तो उसके दबाव में आकर जैसा सीबीआई उससे कह रही है, वह वैसा करता जा रहा है. बाल सुरक्षा अधिकारी ने जब एकांत में आरोपी से बात की तो आरोपी ने कहा कि सीबीआई ने उसका टॉचर किया है और धमकाया है. उसने प्रद्युम्‍न की हत्‍या नहीं की. आरोपी के बयान को बाल सुरक्षा एवं संरक्षण अधिकारी ने लिख लिया है. अब इस लिखित रिपोर्ट को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के पास भेजा जाएगा.  

इसके साथ ही सीबीआई की मौजूदगी में आरोपी की परिजनों से एक घंटे तक मुलाकात कराई गई. इस दौरान मां किशोर के साथ लिपटकर रोती रही. छोटा भाई भी अपने आप को नहीं रोक सका और रोने लगा.

इससे पहले गुड़गांव के रायन इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युम्न ठाकुर की मौत मामले में सीबीआई ने चौंकाने वाली बात कही है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक सीबीआई ने कहा कि प्रद्युम्न मर्डर केस में गुड़गांव पुलिस ने सबूतों के साथ छेड़छाड़ की थी. यहां गौर करने वाली बात यह है कि इस मर्डर की शुरुआती जांच में गुड़गांव पुलिस ने रायन स्कूल के बस कंडक्टर अशोक को आरोपी बनाया था. वहीं प्रद्युम्न के परिजनों की जिद्द पर शुरू हुई सीबीआई जांच में पुलिस की थ्योरी बिल्कुल गलत साबित हुई. 

प्रद्युम्न मर्डर केस: CBI का गुड़गांव पुलिस पर गंभीर आरोप, सबूतों से हुई थी छेड़छाड़

सीबीआई ने अशोक को मामले में क्लीनचिट दे दी और स्कूल के ही 11वीं के छात्र को हत्या का आरोपी बनाया है. जांच और आरोपी छात्र के पूछताछ के आधार पर सीबीआई ने कहा है कि आरोपी छात्र ने परीक्षा की डेट टलवाने के लिए प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या की थी. प्रद्युम्न मर्डर केस की जांच में लापरवाही और सबूतों से छेड़छाड़ की शिकायत सीबीआई हरियाणा के डीजीपी को चिट्ठी भी लिख सकती है. ऐसे में गुड़गांव पुलिस के अफसरों पर कार्रवाई भी हो सकती है. 

आरोपी छात्र के पिता ने CBI की थ्योरी को गलत बताया
शनिवार को जुवेनाइल कोर्ट (किशोर अदालत) में आरोपी छात्र की पेशी के बाद उसके पिता ने आरोप लगाया कि जांच एजेंसी के अफसरों ने उनके बेटे के साथ बेहद क्रूर बर्ताव किया. कहा कि उनके बेटे को उलटा लटाकाकर पीटा गया. हालांकि सीबीआई ने सभी आरोपों को खारिज किया है. आरोपी छात्र के पिता ने कहा, 'मेरे बेटे को प्रताड़ित किया गया. उसे उलटा लटकाकर पीटा गया. मेरा बेटा निर्दोष है. क्या आप यह सोच सकते हैं कि 11वीं का छात्र किसी का मर्डर करने के बाद इतने दिनों तक सामान्य व्यवहार कर सकता है.?' 

प्रद्युम्न मर्डर केस में आरोपी छात्र के पिता ने कहा, 'स्कूल के पीटीएम में सभी टीचरों ने उनके बेटे की काफी तारीफ की थी, मेरा बेटा पढ़ने में काफी अच्छा है, उसकी मार्कशीट सारी कहानी बयां कर रही है.' उन्होंने ये बातें सीबीआई की उस दलील को झुठलाने के लिए कही, जिसमें कहा गया है कि आरोपी छात्र पढ़ने में काफी कमजोर था और परीक्षा की डेट बढ़वाने के लिए उसने प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या कर दी थी.