राजस्थान में बीजेपी अंगद का पांव है, कोई गठबंधन नहीं हिला सकता : अमित शाह

शाह ने कहा कि राजस्थान सहित कुछ राज्यों के विधानसभा चुनावों से 2019 के आम चुनावों की दिशा तय होगी इसलिए पार्टी कार्यकर्ता आगामी चुनाव में अपना सर्वस्व झोंक दें. 

राजस्थान में बीजेपी अंगद का पांव है, कोई गठबंधन नहीं हिला सकता : अमित शाह
जयपुर पहुंचकर शाह ने विधानसभा और लोकसभा चुनावों को लेकर संभागवार बैठकों का दौर शुरू किया.
Play

जयपुर: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह एक दिवसीय दौरे पर जयपुर पहुंचे. विधानसभा और लोकसभा चुनावों को लेकर संभागवार बैठकों का दौर शुरू किया. अपनी चार बैठकों में शाह ने कांग्रेस और विपक्षी पार्टियों को निशाने पर लिया. साफ़ कहा कोई भी गठबंधन भाजपा को नहीं हिला सकता क्योंकि जनता का साथ भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में हैं. उन्होंने कहा कि राजस्थान सहित कुछ राज्यों के विधानसभा चुनावों से 2019 के आम चुनावों की दिशा तय होगी इसलिए पार्टी कार्यकर्ता आगामी चुनाव में अपना सर्वस्व झोंक दें. 

जयपुर की एक दिन की यात्रा पर आए शाह ने शक्ति केंद्र सम्मेलन में पार्टी की पोल बूथ समितियों के सदस्यों को संबोधित किया. आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के अभियान का एक तरह से शंखनाद करते हुए शाह ने कहा, ‘राजस्थान में भाजपा की सरकार अंगद का पांव है. उसे कोई उखाड़ नहीं सकता.’ उन्होंने कहा कि राज्य में पार्टी की पहुंच हर बूथ तक है और यहां भाजपा को हराना नामुमकिन है. उन्होंने कहा कि पार्टी के हर कार्यकर्ता को आगामी विधानसभा चुनाव को अपना चुनाव समझते हुए लड़ना चाहिए क्योंकि यह किसी विधायक, मंत्री या मुख्यमंत्री का चुनाव नहीं बल्कि भाजपा का, उसके कार्यकर्ता का चुनाव है.

आगामी लोकसभा चुनावों का ट्रेलर हैं राजस्थान विधानसभा चुनाव : अमित शाह
शाह ने कहा कि राज्य में पार्टी की पहुंच हर बूथ तक है और यहां भाजपा को हराना नामुमकिन है. 

इस साल तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को महत्वपूर्ण बताते हुए शाह ने कहा,‘ अपने तीन प्रमुख राज्यों में चुनाव होने हैं. चुनाव का ट्रेंड इन तीन राज्यों के चुनाव तय करेंगे कि 2019 में क्या होने वाला है.’ इसके साथ ही शाह ने दोहराया कि अगर 2019 का चुनाव भाजपा का कार्यकर्ता जीत ले तो ‘50 साल तक पंचायत से पार्लियामेंट तक भाजपा को कोई हरा नहीं सकेगा.’ राज्य में पार्टी कार्यकर्ताओं का उत्साह बढ़ाते हुए शाह ने कहा कि वे ‘अगर मगर, किंतु परंतु छोड़कर दुश्मन को पराजय देने वाली मुद्रा के साथ एकजुट होकर जुट जाएं.’ शाह ने कहा,‘ वसुंधरा सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया है जिससे आपको सर नीचा करना पड़े बल्कि भाजपा सरकार ने ऐसा काम किया है कि आप सीना तान कर राजस्थान की जनता के सामने जा सकें .’ उन्होंने कहा कि पार्टी की कार्ययोजना को निचले स्तर पर पहुंचाने की जिम्मेदारी कार्यकर्ताओं की है.

Amit Shah
अपने संबोधन में शाह ने विभिन्न मुद्दों को लेकर पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार, कांग्रेस पार्टी पर भी निशाना साधा.

उन्होंने सवाल उठाया,‘ कांग्रेस राज्य में अपने नेता की घोषणा क्यों नहीं कर रही, वह क्यों नहीं बताती कि किसके नेतृत्व में राजस्थान में चुनाव लड़ा जाएगा, राजस्थान की जनता को यह जानने का अधिकार है.’ शाह ने कहा, ‘ जिसके पास नेता, नीति और नेतृत्व नहीं है, वह पार्टी जीत की अधिकारी नहीं है.’ शाह ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और राज्य की राजे सरकार की विभिन्न उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कार्यकर्ताओं से कहा कि वे इन्हें लेकर आम मतदाता तक जाएं. इससे पहले हवाई अड्डे पर पार्टी के स्थानीय नेताओं ने शाह का स्वागत किया. शाह यहां से मोती डूंगरी गणेश मंदिर गए और पूजा अर्चना की. राज्य में विधानसभा चुनाव इस साल होने हैं और जुलाई के बाद शाह की यह तीसरी राजस्थान यात्रा है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close