राजस्थान : कांग्रेस नेता का आरोप, मेरी पार्टी के विधायक सरकार से मिले हैं, सदन में बोलने नहीं देते

शुक्रवार को विधानसभा की कार्रवाई में कांग्रेस में गुटबाजी खुलकर देखने को मिली. इतना ही नहीं प्रतिपक्ष के उप नेता ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस के कुछ विधायक सरकार से मिले हुए हैं.

ज़ी न्यूज़ डेस्क ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Feb 10, 2018, 06:32 AM IST
राजस्थान : कांग्रेस नेता का आरोप, मेरी पार्टी के विधायक सरकार से मिले हैं, सदन में बोलने नहीं देते
कांग्रेस विधायक दल के उप नेता रमेश मीणा ने अपनी ही पार्टी के कुछ विधायकों पर सरकार से मिले होने का आरोप लगाया है.

जयपुर : पिछले दिनों अलवर और अजमेर की दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने शानदार विजय हासिल की, लेकिन इस जीत के बाद भी राज्य कांग्रेस में एकजुटता नजर नहीं आ रही है. शुक्रवार को विधानसभा की कार्रवाई में कांग्रेस में गुटबाजी खुलकर देखने को मिली. इतना ही नहीं विपक्षी दल के उप नेता ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस के कुछ विधायक सरकार से मिले हुए हैं.

सरकार से मिले हैं कांग्रेसी
कांग्रेस विधायक दल के उप नेता रमेश मीणा ने अपनी ही पार्टी के कुछ विधायकों पर सरकार से मिले होने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि विधानसभा में शुक्रवार के पूरे घटनाक्रम की जानकारी प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट को दी जाएगी. यदि सुनवाई नहीं हुई तो राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अवगत कराया जाएगा. 

सदन में बोलने नहीं दिया
मीणा ने विधानसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि सरकार का विरोध नहीं किया जा रहा है. कुछ विधायक सरकार से मिले हुए हैं, कौन सदन में बोलेगा, कौन नहीं, यह वही लोग तय करते हैं. किसी को सदन में बोलने नहीं दिया जाता.

राजस्‍थान उपचुनाव में इसलिए कांग्रेस ने बीजेपी को पछाड़ा

वरिष्ठ नेताओं से करेंगे शिकायत
गौरतलब है कि शुक्रवार को सदन में भाजपा के वरिष्ठ विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी के बोलने के बाद अध्यक्ष कैलाश मेघवाल से बोलने की अनुमति मांगी. लेकिन अध्यक्ष ने उन्हें अनुमति नहीं दी. इस पर निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल और कांग्रेस के रमेश मीणा ने आसन की व्यवस्था का विरोध किया. वह तिवाड़ी के समर्थन में कुछ बोलना चाहते थे लेकिन नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी उन्हें बैठने का निर्देश देते हुए नजर आए. रमेश मीणा इसके बाद सदन से बहिष्कार कर गए.

(इनपुट भाषा से)