राजस्थान: क्या जैतारण की जनता इस बार थामेंगी कांग्रेस का हाथ?

राजस्थान के विधानसभा क्षेत्र जैतारण में साल 2008 में हुए चुनावों में स्वतंत्र एमएलए दीलिप चौधरी ने जीत दर्ज की थी.

राजस्थान: क्या जैतारण की जनता इस बार थामेंगी कांग्रेस का हाथ?
2013 में हुए चुनावों में उन्हें मात देते हुए बीजेपी विधायक सुरेंद्र गोयल ने जीत का परचम लहराया था.

जोधपुर: राजस्थान में विधानसभा चुनावों का शंखनाद हो गया है. पिछले ही दिनों निर्वाचन आयोग द्वारा चार राज्यों में चुनावों की तारीख की घोषणा की गई है. जिसके मुताबिक राजस्थान में इस साल के अंत यानी दिसंबर में चुनाव होंगे. चुनाव से पहले कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही दलों के नेता जोर-शोर से प्रचार में जुट गए हैं.  

राजस्थान के विधानसभा क्षेत्र जैतारण में साल 2008 में हुए चुनावों में स्वतंत्र एमएलए दीलिप चौधरी ने जीत दर्ज की थी. हालांकि, 2013 में हुए चुनावों में उन्हें मात देते हुए बीजेपी विधायक सुरेंद्र गोयल ने जीत का परचम लहराया था. आपको बता दें इस सीट पर एक ओर जहां 2008 में स्वतंत्र विधायक दीलिप चौधरी कुल 43,077 वोटों से जीते थे तो वहीं दूसरी ओर 2013 में हुए चुनावों में इस सीट पर बीजेपी एमएलए सुरेंद्र गोयल ने कुल 81,066 वोटों से जीत हासिल की थी. गौरतलब है कि इस क्षेत्र में वोटरों की कुल संख्या 2,23,063 है. जिसमें से पुरुष वोटरों की संख्या 1,39,195 है और महिला वोटरों की संख्या 83,868 है. 

एक ही चरण में होंगे चुनाव
प्रदेश में 7 दिसंबर को एक ही चरण में चुनाव होंगे. वहीं मतगणना 11 दिसंबर को होगी जिसके बाद चुनावों के परिणामों की घोषणा होगी. 6 अक्टूबर को चुनावी तारीख के ऐलान साथ ही राजस्थान में आचार संहिता भी लागू हो गई है. गौरतलब है कि वसुंधरा राजे प्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री हैं. यह दूसरी बार है जब वह राजस्थान की मुख्यमंत्री के पद पर आसीन हुई थीं. इससे पहले प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी जिसमें अशोक गहलोत मुख्यमंत्री के पद पर थे.