बूंदी विधानसभा में चुनाव की तैयारियां पूरी, बनाए गए 900 मतदान केंद्र

7 दिसम्बर को होने वाले मतदान के लिए बून्दी जिले में 900 मतदान केन्द्र बनाये गए हैं.

बूंदी विधानसभा में चुनाव की तैयारियां पूरी, बनाए गए 900 मतदान केंद्र
सभी केन्द्रों पर रेम्प की व्यवस्था भी की गई है.

बूंदी/संदीप व्‍यास: प्रदेश में 7 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बूंदी में भी चुनाव आयोग की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. आयोग द्वारा गुरुवार को मतदान केंद्रों के लिए दलों की रवानगी कि गई. विधानसभा आम चुनाव के लिए मतदान दलों के तृतीय प्रशिक्षण के बाद बूंदी केशवराय पाटन व हिंडोली के मतदान कर्मियों को भारी सुरक्षा के साथ रवाना किया गया.

7 दिसम्बर को होने वाले मतदान के लिए बून्दी जिले में 900 मतदान केन्द्र बनाये गए हैं. जिले के हिण्डोली विधानसभा क्षेत्र में 284 मतदान मतदान केन्द्र, केशोरायपाटन विधानसभा क्षेत्र में कुल 297 तथा बून्दी विधानसभा क्षेत्र में 319 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं. जिले के 900 मतदान केन्द्रों में शहरी क्षेत्र में 129 तथा ग्रामीण क्षेत्र में 771 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं. हिण्डोली विधानसभा क्षेत्र में 273 ग्रामीण तथा 7 शहरी मतदान केन्द्र हैं. वहीं केशोरायपाटन विधानसभा क्षेत्र 243 ग्रामीण तथा 54 शहरी एवं बून्दी विधानसभा क्षेत्र 255 ग्रामीण तथा 64 शहरी मतदान केन्द्र हैं. 

जिला निर्वाचन अधिकारी महेश शर्मा ने मतदान कर्मियों का आह्वान किया कि वह पूरी मुस्तैदी और आत्मविश्वास के साथ निष्पक्षता एवं पारदर्शिता पूर्वक निर्वाचन संपन्न कराएं. उन्होंने कहा कि भारतीय लोकतंत्र की निर्वाचन व्यवस्थाएं सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है क्योंकि हमारी मशीनरी निष्पक्षता पूर्वक और पारदर्शिता के साथ निर्वाचन संपन्न कराती है. अतः निर्वाचन आयोग की मंशा के अनुरूप इसी परंपरा को कायम रखते हुए जिम्मेदारी के साथ सजग होकर अपने दायित्व का बखूबी निर्वहन करें. 

साथ ही उन्‍होनें बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा विधानसभा चुनाव-2018 के लिए रखी गई 'सुगम मतदान' थीम के प्रावधानों के तहत मतदान केन्द्रों पर सुगम मतदान के लिए व्यापक प्रबंध किए गए हैं. सभी केन्द्रों पर रेम्प की व्यवस्था भी की गई है. दिव्यांगजनों की बहुलता वाले मतदान केन्द्रों पर ट्राईसाईकिल की व्यवस्था भी की गई है. दिव्यांगों को कतार में नहीं लगना पडे और सुगमता से मतदान हो इसके लिए सारथी भी मतदान केन्द्र पर मौजूद रहेंगे. इसके अलावा स्काउट को भी मतदाताओं की सहायता के लिए लगाया गया है.

निर्वाचन आयोग द्वारा इस बार विधानसभा चुनाव में महिला मतदाताओं की विशेष भागीदारी के लिए खास प्रयास करते हुए महिला सशक्तिकरण केंद्र के तौर पर महिला मतदान केंद्रों की स्थापना की है. पहली बार हुए इस प्रयोग के तहत तीनों विधानसभा क्षेत्रों में एक-एक महिला बूथ शहरी क्षेत्रों में बनाए गए हैं. मतदान केंद्रों पर पीठासीन अधिकारी से लेकर सभी कार्मिक महिला होंगी. यहां तक कि सुरक्षाकर्मी भी महिलाएं ही होंगी. यह प्रयोग इस मंशा के साथ किया गया है कि महिलाएं निसंकोच निर्भीकता से अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close