राजस्थान: 4 पीढ़ी तक शासन करने वालों ने गांधी के स्वच्छता के सपने को तोड़ा है- PM मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि पर्यटन उद्योग के क्षेत्र में भारत को जितना लाभ लेना चाहिए था वो नहीं ले पाये.

राजस्थान: 4 पीढ़ी तक शासन करने वालों ने गांधी के स्वच्छता के सपने को तोड़ा है- PM मोदी
इन्होंने गांधी जी के सपनों को भी चूर-चूर किया- पीएम मोदी

जोधपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि चार-चार पीढ़ियों तक शासन करने वालों ने महात्मा गांधी के स्वच्छता के सपने को चूर-चूर कर दिया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों के चलते देश पर्यटन उद्योग का समुचित लाभ नहीं उठा पाया.

यहां चुनावी रैली में मोदी ने स्वच्छता का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पर्यटन की पहली शर्त होती है स्वच्छता. महात्मा गांधी का सपना स्वच्छता था. उन्होंने आगे कहा ‘‘इतने सारे प्रधानमंत्री हो गये इनकी चार-चार पीढ़ी हो गई आपने कभी इनके मुंह से गांधी जी की इच्छा को पूरा करने के लिये एक बार भी सुना क्या? इन्होंने गांधी जी के सपनों को भी चूर-चूर किया.’’ मोदी ने कहा,‘‘गांधी के सपनों को भुला दिया क्योंकि इन्हें मालूम था कि अगर वह फकीर गांधी याद रहेगा तो फिर यह ‘नामदार’ गांधी को कौन याद करेगा.’’  

उन्होंने कहा कि जो काम आजादी के 70 साल के दौरान हो जाना चाहिए था वह उनके जिम्मे आया. मोदी ने कहा कि भारत अपने पर्यटन उद्योग का समुचित लाभ नहीं उठा पाया और अगर देश ने शुरू से पर्यटन पर बल दिया होता तो आज भारत पर्यटन के क्षेत्र में दुनिया में नंबर एक पायदान पर होता. प्रधानमंत्री ने कहा कि पर्यटन उद्योग के क्षेत्र में भारत को जितना लाभ लेना चाहिए था वो नहीं ले पाये. उन्होंने कहा कि पर्यटन एक ऐसा क्षेत्र है जहां कम से कम पूंजी से ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिलता है.

उन्होंने देश में पर्यटन को बढ़ावा नहीं देने के लिये पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा, ‘‘जोधपुर, उदयपुर, जैसलमेर राजस्थान के किले, महल.. ये सब मोदी के आने के बाद बने हैं क्या...मोदी के पहले थे कि नहीं थे, कांग्रेस के जमाने में थे कि नहीं थे उसके बावजूद भी हिन्दुस्तान में पर्यटन क्यों नहीं बढ रहा था.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं गर्व के साथ कहता हूं कि आज भारत में पर्यटन की वृद्वि दर दस से पंद्रह प्रतिशत तक हो गई है. राजस्थान को भी इसका लाभ मिलेगा.’’ 

(इनपुट भाषा)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close