चित्तौड़गढ़: 7 साल के ये योग गुरु हैं कमाल, स्कूल में खुद से बड़ों को भी सिखाते हैं योगा

अर्हम ने 25 अप्रैल को बांसवाड़ा में आयोजित योग शिविर में योग गुरु बाबा रामदेव के साथ भी मंच साझा किया था. इस दौरान अर्हम की योग क्रियाएं देख लोग अचंभित रह गए थे.

चित्तौड़गढ़: 7 साल के ये योग गुरु हैं कमाल, स्कूल में खुद से बड़ों को भी सिखाते हैं योगा
बाबा राम देव के साथ भी मंच साझा कर चुके हैं अर्हम.

चित्तौड़गढ़/ दीपक व्यास: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के निम्बाहेड़ा निवासी नन्हे योगी अर्हम जेतावत ऐसे ऐसे योग कर लेते हैं जिन्हें देख आप भी हैरान रह जाएंगे. अर्हम लगभग साढे 4 वर्ष की छोटी सी उम्र से कठिन से कठिन योग मुद्राएं कर रहा है और सात साल की छोटी सी उम्र में अर्हम जेतावत योग गुरु बनकर खुद के स्कूल में पढ़ने वाले स्कूली बच्चों के साथ निम्बाहेड़ा के युवाओं से लेकर 80 साल तक के बुजुर्गों को भी योग सिखा रहे हैं.

इतना ही नहीं, अर्हम ने 25 अप्रैल को बांसवाड़ा में आयोजित योग शिविर में योग गुरु बाबा रामदेव के साथ भी मंच साझा किया था. इस दौरान अर्हम की योग क्रियाएं देख लोग अचंभित रह गए थे. वहीं मंच पर अर्हम की प्रतिभा को देख बाबा रामदेव भी उसके अभिभावक बन गए हैं. विश्व योग दिवस पर होने वाले उपखंड स्तरीय योग में भी दो साल से अर्हम अन्य वरिष्ठ योग गुरुओं के साथ मंच सांझा कर रहे हैं. बीते 8 माह से वह प्रतिदिन सुबह 5.45 से 7 बजे तक बच्चे, बूढ़े व महिलाओं को स्थानीय उद्यान मे योग करवा रहे हैं.  

ढाई साल में बना योग गुरु, मिला गोल्ड मेडल
अर्हम ने ढाई साल पहले पिता के साथ स्थानीय पतंजलि संस्थान के योग कार्यक्रम में भाग लिया था, तब से उसके मन में योग के प्रति रुझान पैदा हो गया था और कुछ समय बाद ही अर्हम योग गुरु बन गया. पिछले साल इंदौर में मध्यप्रदेश और राजस्थान की अंतरराज्यीय योग प्रतियोगिता में वह स्वर्ण पदक जीत चुके हैं. उन्हें ट्रॉफी के साथ 21 हजार रुपए का नकद पुरस्कार भी मिला था. 

इस साल सबडिवीजन स्तर पर वह सम्मानित हुए हैं. यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी सहित जैन जागृति सेंटर, हेल्प सोसायटी आदि संस्थाएं भी योग गुरु अर्हम को सम्मानित कर चुकी हैं. स्थानीय पदम विद्या विहार स्कूल में अध्ययनरत लिटिल योग गुरु अर्हम योग के साथ पढ़ाई में भी टॉपर है. नर्सरी, एलकेजी, यूकेजी और पहली कक्षा में 100 प्रतिशत अंक से पास हुआ. वो सफलता का श्रेय पिता विमल और मां प्रियंका को देते हैं. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close