प्रद्युम्‍न हत्‍याकांड में एक और छात्र के शामिल होने की आशंका

प्रद्युम्‍न हत्‍याकांड मामले में एक और खुलासा हुआ है. सीबीआई की जांच में पता चला है कि प्रद्युम्‍न की हत्या करने में एक और छात्र शामिल था.

प्रद्युम्‍न हत्‍याकांड में एक और छात्र के शामिल होने की आशंका
प्रद्युम्‍न हत्‍याकांड में गुड़गांव पुलिस और CBI की थ्योरी बिल्कुल अलग है.
Play

गुड़गांव: प्रद्युम्‍न हत्‍याकांड मामले में एक और खुलासा हुआ है. सीबीआई की जांच में पता चला है कि प्रद्युम्‍न की हत्या करने में एक और छात्र शामिल था. आरोपी छात्र से पूछताछ के बाद सीबीआई ने दूसरे संदिग्ध छात्र को हिरासत में लेकर पूछताछ की है. यह वही छात्र है, जिसने आरोपी छात्र के साथ माली और टीचर को प्रद्युम्‍न की हत्‍या की जानकारी दी थी. केस को सुलझाने के लिए सीबीआई दोनों आरोपी छात्रों के साथ प्रद्युम्‍न की हत्या के पूरे घटनाक्रम का क्राइम सीन रिक्रिएट की है, हालांकि रिपोर्ट आनी अभी बाकी है. स्कूल के सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि इन्हीं दोनों छात्रों ने माली को जाकर बताया था कि बाथरूम में एक लड़का खून में लथपथ पड़ा हुआ है. इसके बाद दोनों लड़के पीटी टीचर के पास गए और उन्‍हें इस बात की जानकारी दी. हालांकि पीटी टीचर इस बात से मना कर चुके हैं. इस मामले में एक आरोपी युवक को गिरफ्तार कर चुकी है. सीबीआई इस हत्याकांड में दूसरे लोगों के शामिल होने के संदेह पर जांच कर रही है. 

सीबीआई की टीम गुरुवार को आरोपी छात्र के साथ उस दुकान पर गई थी जहां से उसने चाकू खरीदा था. सीबीआई की ओर से मीडिया को दी गई जानकारी में कहा गया है कि जुवेनाइल कोर्ट को बताया गया है कि आरोपी छात्र ने अपने पिता, एक स्‍वतंत्र गवाह और सोशल वेलफेयर बोर्ड के सदस्‍य की मौजूदगी में अपना अपराध कबूल किया था. आरोपी छात्र ने ये हत्‍या परीक्षा टालने के लिए की थी. 

ये भी पढ़ें: छात्र प्रद्युम्न के पिता ने उठाए सवाल, इस हत्याकांड का हश्र कहीं आरुषि हत्याकांड जैसा न हो..?

अशोक उसे फंसाने वाले अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा करेगा
गुडगांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल (Ryan school ) के दूसरी कक्षा के छात्र की हत्या के सिलसिले में केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा 16 वर्षीय छात्र के पकडे जाने के बाद बस कंडक्टर अशोक कुमार के परिवार ने उन पुलिस अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने का निर्णय किया है जिन्होंने उसे फंसाया था. छात्र की हत्या के मामले में शुरू में पुलिस ने अशोक को गिरफ्तार किया था.

अशोक के पिता अमीरचंद ने बताया, 'यह अब लगभग स्पष्ट हो चुका है कि मेरे बेटे अशोक को फंसाया गया और बलि का बकरा बनाया गया. हमने गुडगांव पुलिस के विशेष जांच दल के अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कराने का निर्णय किया है. इन अधिकारियों ने उसे फंसाया और मीडिया के समक्ष अपराध स्वीकार करने के लिए टार्चर किया तथा नशे का डोज दिया.' अमीर ने कहा कि उनके परिवार ने केस दर्ज करने के लिए गांव वालों से आर्थिक सहायता मांगी है .

ये भी पढ़ें: प्रद्युम्न हत्‍याकांड: फिर से दोहराया गया मर्डर सीन, आरोपी ने बताई हैरान करने वाली सच्‍चाई

विपक्षी दल ने भाजपा सरकार और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर पुलिस जांच में नाकामी के लिए हमला बोला है. पूर्ववर्ती हुडा सरकार के मंत्री अजय यादव ने तीन डीसीपी तथा विशेष जांच दल के सदस्यों के खिलाफ गहन जांच की मांग की है जिसने गरीब कंडक्टर को बलि का बकरा बनाया था. हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर ने बताया कि यह खट्टर सरकार की विफलता है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close