शंघाई एयरपोर्ट पर चीनी एयरलाइन ने की भारतीयों के साथ बदसलूकी

चहल ने सुषमा को यह भी सुझाव दिया था कि वो भारतीय यात्रियों को परामर्श जारी करें कि वे चीन के रास्ते होकर जाने से बचें. वैसे डोकलाम पर जारी गतिरोध के मद्देनजर पिछले माह, चीन ने भारत में अपने नागरिकों को एक सुरक्षा परामर्श जारी करके कहा था कि वे मौजूदा चीन-विरोधी भावनाओं से प्रभावित होने से बचने के लिए अपनी सुरक्षा पर अधिक ध्यान दें और ऐहतियात बरतें.

ज़ी न्यूज़ डेस्क | अंतिम अपडेट: Aug 13, 2017, 04:33 PM IST
शंघाई एयरपोर्ट पर चीनी एयरलाइन ने की भारतीयों के साथ बदसलूकी
एयरलाइन से शिकायत करने पर चीनी अधिकारी चिल्लाने लगा था. (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली: भारत ने शंघाई पुदोंग अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर एक चीनी एयरलाइन के कर्मचारियों द्वारा भारतीयों से कथित दुर्व्यवहार का मामला उठाया है. एक भारतीय यात्री ने शिकायत दर्ज कराई थी. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के संज्ञान में लाए जाने के बाद यह मामला चीनी विदेश मंत्रालय के शंघाई विदेश मामलों के कार्यालय और पुदोंग हवाईअड्डा प्राधिकरण के समक्ष उठाया गया है. हालांकि चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस ने आरोपों को पूरी तरह खारिज कर दिया. चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस ने कहा, संबंधित सामग्री और हवाईअड्डे की सीसीटीवी फुटेज की जांच के बाद पाया गया कि घटना से जुड़ी खबरें तथ्यों के अनुरूप नहीं हैं.

सुषमा को लिखा पत्र

एयरलाइन ने बयान में कहा, ‘‘एयरलाइन के कर्मचारियों ने तो शानदार सेवा दी.’’ इससे पहले मीडिया में आई खबरों में कहा गया था कि नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी असोसिएशन के कार्यकारी निदेशक सतनाम सिंह चहल ने सुषमा को लिखे पत्र में आरोप लगाया था कि व्हीलचेयर यात्रियों को निकालने के लिए बने निकास द्वार पर ग्राउंड स्टाफ भारतीय यात्रियों का अपमान कर रहे थे.

चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस की फ्लाइट

छह अगस्त को चहल ने नई दिल्ली से सेनफ्रांसिस्को जाने के लिए चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस की फ्लाइट ली थी. उन्हें सेन फ्रांसिस्को जाने वाला विमान लेने के लिए शंघाई पुदोंग हवाईअड्डे पर रूकना पड़ा था. उन्होंने कहा, जब उन्होंने संबंधित एयरलाइन से शिकायत की तो चीनी अधिकारी उनपर चिल्लाने लगा था.

चीन के रास्ते होकर जाने से बचें

चहल ने सुषमा को यह भी सुझाव दिया था कि वो भारतीय यात्रियों को परामर्श जारी करें कि वे चीन के रास्ते होकर जाने से बचें. वैसे डोकलाम पर जारी गतिरोध के मद्देनजर पिछले माह, चीन ने भारत में अपने नागरिकों को एक सुरक्षा परामर्श जारी करके कहा था कि वे मौजूदा चीन-विरोधी भावनाओं से प्रभावित होने से बचने के लिए अपनी सुरक्षा पर अधिक ध्यान दें और ऐहतियात बरतें.