एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन दें या न दें इस पर शिवसेना करेगी बैठक

शिवसेना सांसद संजय राउत ने आज कहा कि पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने के मुद्दे पर फैसला करने के लिए पार्टी नेताओं की बैठक बुलाएंगे. एनडीए में दूसरी सबसे बड़ी सहयोगी पार्टी शिवसेना के भाजपा से तब से असहज संबंध रहे हैं जब 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले दोनों दल अलग हो गए थे. यद्यपि शिवसेना बाद में भाजपा नीत सरकार में शामिल हो गई थी, लेकिन वह विमुद्रीकरण और सीमा पर तनाव जैसे सभी बड़े मुद्दों पर भाजपा पर निशाना साधती रही है.

 एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन दें या न दें इस पर शिवसेना करेगी बैठक
एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद

मुंबई: शिवसेना सांसद संजय राउत ने आज कहा कि पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने के मुद्दे पर फैसला करने के लिए पार्टी नेताओं की बैठक बुलाएंगे. एनडीए में दूसरी सबसे बड़ी सहयोगी पार्टी शिवसेना के भाजपा से तब से असहज संबंध रहे हैं जब 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले दोनों दल अलग हो गए थे. यद्यपि शिवसेना बाद में भाजपा नीत सरकार में शामिल हो गई थी, लेकिन वह विमुद्रीकरण और सीमा पर तनाव जैसे सभी बड़े मुद्दों पर भाजपा पर निशाना साधती रही है.

रामनाथ कोविंद : जानें कौन हैं एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा, अमित शाह ने भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए का उम्मीदवार तय किए जाने के बाद उद्धवजी से बात की. उन्होंने कहा, उद्धवजी ने उनसे कहा कि वह किसी फैसले पर पहुंचने के लिए पार्टी नेताओं की बैठक बुलाएंगे और एक-दो दिन में उन्हें अपना जवाब देंगे. शिवसेना सांसद ने कहा कि उद्धव आज शाम कई सवालों का जवाब दे सकते हैं जब वह शिवसेना के 51वें स्थापना दिवस पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे.

रामनाथ कोविंद अप्रतिम राष्ट्रपति साबित होंगे, गरीबों और वंचितों के आवाज बने रहेंगे: PM मोदी

राउत ने कहा, हमने पद के लिए दो नाम सुझाए थे. एक नाम (आरएसएस प्रमुख) मोहन भागवत का था. यदि उन्हें इससे समस्या थी तो हम जाने-माने कृषि विशेषज्ञ एमएस स्वामीनाथन को चाहते थे. लेकिन क्योंकि उन्होंने अन्य नाम तय कर लिया है, लिहाजा पार्टी अपने फैसले के बारे में भाजपा को जल्द अवगत कराएगी. 

रामनाथ कोविंद: दबे-कुचलों की बुलंद आवाज

महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 122 विधायक हैं तथा उसका दावा है कि उसके पास कुछ और विधायकों का भी समर्थन है. संसद में महाराष्ट्र से 67 सदस्य हैं. इनमें से 48 लोकसभा में और 19 राज्यसभा में हैं. राज्य से भाजपा नीत एनडीए (शिवसेना सहित) के 52 सांसद हैं. इनमें से शिवसेना के 21 सांसद (18 लोकसभा और 3 राज्यसभा) हैं. राज्य से भाजपा के 23 लोकसभा सांसद और पांच राज्यसभा सदस्य हैं. इन्हें मिलाकर कुल 19,824 मत बनते हैं. महाराष्ट्र से कांग्रेस नीत यूपीए के संसद के दोनों सदनों में 15 सांसद हैं. यूपीए के सांसदों को मिलाकर कुल 10,620 मत बनते हैं.