शिवसेना ने बीजेपी से नाता तोड़ने का किया ऐलान, 2019 में अकेले लड़ेगी चुनाव

शिवसेना ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में फैसला लिया है कि वह अगले लोकसभा चुनावों में एनडीए का हिस्सा नहीं होगी. 

Naveen Kumar नवीन कुमार | Updated: Jan 23, 2018, 03:27 PM IST
शिवसेना ने बीजेपी से नाता तोड़ने का किया ऐलान, 2019 में अकेले लड़ेगी चुनाव
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित किया (फोटोः एएनआई)

नई दिल्लीः शिवसेना ने कहा है कि साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में वह बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करेगी. पार्टी ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में फैसला लिया है कि वह अगले लोकसभा चुनावों में एनडीए का हिस्सा नहीं होगी. शिवसेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राज्यसभा सांसद संजय राउत ने बीजेपी से अलग होने का प्रस्ताव रखा था. जिसे पार्टी ने सर्वसम्मति से मान लिया है. पार्टी का मानना है कि बीजेपी के साथ होने से पिछले तीन साल में उसका मनोबल गिरा है. शिवसेना ने ऐलान किया है कि वह ना सिर्फ अगले लोकसभा चुनाव बल्कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भी अकेले मैदान में जाएगी.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस शिवसेना के इस कदम पर कहा है, '2019 चुनाव जब होंगे तब देखा जाएगा, शिवसेना पहले भी बहुत कुछ कह चुकी है, मैं उसपर कोई टिप्पणी नहीं करूंगा. सच्चाई यह है कि शिवसेना और बीजेपी गठबंधन की महाराष्ट्र में सरकार हैं  और यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. '

शिवसेना उद्धव ठाकरे का पीएम मोदी पर बड़ा हमला
राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी पर जमकर हमला किया. ठाकरे ने कहा कि 56इंच की छाती होने से कुछ नहीं होता, छाती कितनी बड़ी है ये सवाल नहीं है उसमें दम और शौर्य कितना है ये महत्वपूर्ण है. ठाकरे ने बीजेपी के हिंदुत्व और अपने हिंदुत्व में अंतर बताया. उन्होंने कहा कि उनके हिंदुत्व और हमारे हिंदुतव ने अंतर है. बड़ी बड़ी बातें करने कुछ नहीं होता. 

पीएम हर बार विदेश से आए प्रधानमंत्री को अहमदाबाद ले जाते है घुमाने क्या बाक़ी राज्य नहीं है. वहां क्यों नहीं जाते? ठाकरे ने कहा कि पीएम विदेशी मेहमानों के साथ कश्मीर पश्चिम बंगाल क्यों नहीं जाते. उन्हें लाल चौक क्यों नहीं ले जाते घुमाने. जाइए वहां घुमायिए और तिरंगा भी फहराइए. अहमदाबाद में विदेशी प्रधानमंत्री को ले जाकर पतंग उड़ा रहे है, ये श्रीनगर के लाल चौक पर क्यों नहीं करते. वहां पतंग उड़ाइए. 

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पीएम मोदी हर चुनाव में कहते है अच्छे दिन आ आनेवाले है क्या आए अभी तक? उन्होंने कहा कि सत्ता की हवा भर गई है इनके दिमाग में. गुजरात चुनाव में बीजेपी के प्रदर्शन का जिक्र करते हुए शिवसेना प्रमुख ने कहा कि गुजरात में आपने देखा क्या हुआ, बीजेपी नीचे आई कांग्रेस ऊपर गयी है. बीजेपी के नीचे आने से या ऊपर जाने से ख़ुशी नहीं है. लेकिन अगर वहां कोई जनता कोई तीसरी क्षेत्रीय पार्टी होती उसको वोट करते. 

 

shiv sena national executive meeting in mumbai

गौरतलब है कि शिवसेना और बीजेपी में तल्खी महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद से ही शुरू हो गई थी. इसके बाद महाराष्ट्र नगर निकाय चुनाव के नतीजों के बाद भी शिवसेना राज्य में बीजेपी के बढ़ते कद को लेकर परेशान रही है. केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की फडणवीस सरकार पर शिवसेना लगातार हमला करती रही है और सरकार में भी बनी रही है. बता दें कि वर्तमान में 288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधानसभा विधानसभा में शिवसेना दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है. शिवसेना के पास 63 सीटें है जबकि राज्य की सत्ताधारी बीजेपी 122 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है.

केंद्र की बात करें तो शिवसेना ने साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी का समर्थन किया था. इन चुनावों में राज्य की 48 लोकसभा सीटों में से शिवसेना ने 18 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि बीजेपी ने 23 सीटों पर कब्जा किया था. राज्यसभा में शिवसेना के तीन सांसद है. केंद्र की मोदी सरकार में शिवसेना से अनंत गीते भारी उद्योग तथा सार्वजनिक उद्यमिता मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री है. 

 

शिवसेना ने ‘शांतिकाल’ में सैनिकों की मौत पर मोदी सरकार की आलोचना की

जवानों की शहादत पर भी सरकार को घेरा था 
दिसंबर महीने में शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में संपादकीय में कहा, ‘‘ शांतिकाल में किसी सैनिक की मौत से सरकार की खराब छवि बनती है. शांतिकाल में हमारे जवानों की शहादत बीते 30 सालों से हो रही है और जब मौजूदा सरकार सत्ता में आई थी तो हमें इसके थमने की उम्मीद थी.’’ संपादकीय में कहा गया है कि जब पाकिस्तान संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा था और भारतीय सैनिकों की हत्या कर रहा था तब प्रधानमंत्री और समूचा मंत्रिमंडल गुजरात में चुनाव प्रचार में मशगूल था.

शिवसेना ने कहा, ‘‘ गुजरात चुनाव जीतने के लिए आपने सूरत में व्यापारी समुदाय को जीएसटी में कई रियातें दीं. सैनिकों की जानों को बचाने के लिए आपने क्या किया?’’ इसमें कहा गया है, ‘‘ कश्मीर में सामान्य स्थिति के लौटने की बातें झूठ हैं. गुजरात में विकास खो गया है जबकि कश्मीर में शांति और सामान्य हालात लापता हैं.’’ शिवसेना ने कहा कि लोग सरकार की इस दलील को मान सकते हैं कि कश्मीर के युवाओं ने पत्थरबाजी छोड़ दी है. लेकिन देश के खिलाफ हथियार उठाने की रिपोर्टें चिंताजनक हैं.

बीजेपी पर तंज कसा- बीजेपी 2019 में जीत ले 800 सीटें तो आश्चर्य नहीं
2017 के नवंबर महीने में शिवसेना ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा था कि उसे आश्चर्य नहीं होगा यदि  बीजेपी 2019 के चुनाव में '800 सीटें' भी जीत ले. शिवसेना ने यह बात मध्यप्रदेश की उस घटना के संदर्भ में कही  इस वर्ष के शुरुआत में एक प्रदर्शन अभ्यास के दौरान एक वीवीपीएटी मशीन से कथित रूप से गलत तरीके से बीजेपी के चिह्न वाली पर्चियां निकली थीं.

'मोदी लहर' 2019 में दोहराई नहीं जाएगी.
नवंबर महीने के ही एक लेख में शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में प्रकाशित एक संपादकीय में राकांपा नेता प्रफुल पटेल पर भी निशाना साधा जिन्होंने कहा था कि शरद पवार को 2019 में प्रधानमंत्री बनते देखने का राकांपा कार्यकर्ताओं का सपना 'असंभव नहीं है.' इसमें कहा गया है कि सभी इसको लेकर निश्चिंत हैं कि 'मोदी लहर' 2019 में दोहराई नहीं जाएगी. इसमें कहा गया है कि बीजेपी ने जहां एक ओर 2019 के लिए 350 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया है, आतंरिक चर्चाएं हैं कि क्या वे अपनी वर्तमान सीटें भी बरकरार रख पाएंगे.

शिवसेना नेता ने की थी राहुल गांधी की तारीफ 
अक्टूबर महीने में शिवसेना नेता संजय राउत ने सोशल मीडिया के एक धड़े द्वारा कांग्रेस उपाध्यक्ष की खिल्ली उड़ाने के लिए इस्तेमाल किए जाने जाने वाले नाम का जिक्र करते हुए कहा, "कांग्रेस नेता राहुल गांधी देश का नेतृत्व करने में सक्षम हैं." उन्होंने कहा कि तीन साल पहले राहुल गांधी के बारे में कुछ और कहा जाता था लेकिन अब स्थिति वैसी नहीं है. कांग्रेस पार्टी को उनके रूप में एक नेता मिला है.

शिवसेना ने की राहुल गांधी की तारीफ, कहा - देश का नेतृत्व करने में सक्षम

गुजरात चुनाव से पहले बीजेपी का मनोबल गिराने की कही थी बात
27 अक्टूबर को मीडिया से बात करते हुए संजय राउत ने कहा, "2014 के आम चुनाव में मोदी लहर थी लेकिन अब ऐसा लगता है कि यह फीकी पड़ गई है. जीएसटी पेश किए जाने के बाद जिस तरह से लोग गुजरात की सड़कों पर मार्च कर रहे हैं, उससे लगता है कि वो (बीजेपी) चुनौती का सामना करने जा रही है." 

वाराणसी में छात्राओं पर लाठीचार्ज पर पीएम को घेरा था
साल 2017 के सितंबर महीने में शिवसेना के मुखपत्र ‘दोपहर का सामना’ में प्रकाशित संपादकीय में पार्टी ने लिखा,‘‘महंगाई दानव बन गई है और आप मौन हैं. पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान पर हैं और आप मौन हैं. व्यवस्था में सुधार के नाम पर लोग असहाय हैं और आप मौन हैं.’’पार्टी ने कहा,‘‘देश की बेटियों पर लाठीचार्ज किया जा रहा है और आप मौन हैं. आपके पार्टी कार्यकर्ता उत्पात मचा रहे हैं. आप कब तक मौन रहेंगे?’’संपादकीय के अनुसार,‘‘क्या यही आपके संसदीय क्षेत्र की बेटियों का सौभाग्य है, जिन्होंने इतनी आकांक्षाओं के साथ आपको शीर्ष पर पहुंचाया.’’ बीएचयू में छेड़छाड़ की कथित घटना के बाद छात्र-छात्राओं के प्रदर्शन के दौरान लाठीचार्ज में बड़ी संख्या में विद्यार्थी और दो पत्रकार घायल हो गए थे. पार्टी ने प्रधानमंत्री के लिए कहा,‘‘आपने सही से दो बार सोचे-समझे बिना ऐसे कदम उठाये जिनसे देश में तूफान आ गया, लेकिन जहां तक जनता की चिंताओं की बात है तो आपने केवल ‘जुमले’गढ़े.

आम आदमी पार्टी के विधायकों की सदस्यता पर उठाए सवाल 
शिवसेना ने सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) के दिल्ली के 20 विधायकों को 'लाभ का पद' धारण करने को लेकर अयोग्य करार दिए जाने में 'जल्दबाजी' को लेकर सवाल उठाए. शिवसेना ने कहा, "यह एक अभूतपूर्व घटना है जिसमें बहुत से चुने हुए विधायकों को थोक भाव से अयोग्य करार दे दिया गया. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल संकट का सामना कर रहे हैं और यह भ्रष्टाचार व अन्याय के खिलाफ सार्वजनिक अभियान के कारण है."

'चुनाव आयोग ने जल्दबाजी से कार्य किया'
शिवसेना ने अपने पार्टी मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के संपादकीय में कहा कि यहां तक कि मामले का राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संज्ञान लिया और निर्वाचन आयोग (ईसी) की सिफारिशों पर अपनी मंजूरी की मुहर लगा दी. संपादकीय में कहा गया है कि दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के कार्यकाल में भी इसी तरह की शिकायतें थीं और यहां तक कि अभी भी कई राज्यों में हैं, लेकिन उनके पद बने हुए हैं.

सिसोदिया का जनता के नाम खुला खत, '20 सीटों पर चुनाव थोपकर BJP ने विकास के काम रोके'

संपादकीय में कहा गया है कि आप के 20 विधायकों के मामले में चुनाव आयोग ने जल्दबाजी से कार्य किया और विधायकों को अपना पक्ष रखने का अवसर नहीं दिया. इस तरह की राय पूर्व ईसी अधिकारियों की भी है कि निर्वाचन आयोग ने मामले में जल्दबाजी की है. शिवसेना ने कहा, "ईसी ने विधायकों के खिलाफ शिकायत के मामले पर अपना आदेश बिना मामले की सुनवाई के या आप के 20 निर्वाचित प्रतिनिधियों को अपना पक्ष रखने का मौका रखे बगैर दिया है. यह गलत है."

केजरीवाल और एलजी के बीच जारी जंग का भी मुद्दा उठाया
संपादकीय में दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल व दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल के बीच चल रही जंग का भी जिक्र किया गया है और कहा गया है कि इसमें उप राज्यपाल, केजरीवाल व आप सरकार की राह में बाधा पैदा करने का 'एक भी मौका' नहीं छोड़ते. शिवसेना ने कहा है, "अगर केजरीवाल की जगह कोई बीजेपी का मुख्यमंत्री होता तो क्या उप राज्यपाल इस तरह से काम करने की हिम्मत दिखाते? क्या वह ईसी को 20 विधायकों को पक्ष रखे बगैर बाहर का रास्ता दिखाने को कह पाते? केंद्र से अधिक उपराज्यपाल बीजेपी के एजेंट की तरह काम करते दिख रहे हैं."

संपादकीय में कहा गया है कि इस हाल के घटनाक्रम ने चुने हुए प्रतिनिधियों के लाभ का पद धारण करने के ठीक-ठीक मायने पर एक नई बहस शुरू कर दी है, क्योंकि यह इस तरह का देश में पहला मामला है. शिवसेना ने कहा, "ऐसा आरोप लगाया जा रहा है कि चुनाव आयोग का इस्तेमाल आप विधायकों को अयोग्य ठहराने के लिए राजनीतिक हथियार के रूप में किया गया है. इससे आयोग की साख पर सवाल उठे हैं."