केरलः रेप मामले में 3 पादरियों की जमानत याचिका खरिज, कोर्ट ने 'दरिंदों से की तुलना'

न्यायमूर्ति राजा विजयराघवन ने जमानत याचिकायें खारिज करते हुये कहा कि आरोपियों के खिलाफ गंभीर आरोप लगे हैं. जांच अभी शुरुआती चरण में है और अगर इस समय अग्रिम जमानत दे दी जाती है तो इससे जांच पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा. 

केरलः रेप मामले में 3 पादरियों की जमानत याचिका खरिज, कोर्ट ने 'दरिंदों से की तुलना'
फाइल फोटो

कोच्चिः केरल हाईकोर्ट ने बुधवार को एक महिला के बलात्कार के आरोपी 3 पादरियों की अग्रिम जमानत याचिकाएं खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने दरिंदो की तरह व्यवहार किया और महिला का नाजायज फायदा उठाया. पादरियों अब्राहम वर्गीज उर्फ सोनी, जॉब मैथ्यू और जेस के. जॉर्ज ने केरल पुलिस की अपराध शाखा द्वारा मामला दर्ज करने के बाद अदालत का दरवाजा खटखटाया था. अपराध शाखा ने मलंकारा सीरियन ऑर्थोडॉक्स चर्च के पांच में से चार पादरियों के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज किया था, जिनमें इन तीनों के नाम भी शामिल हैं. 

न्यायमूर्ति राजा विजयराघवन ने जमानत याचिकायें खारिज करते हुये कहा कि आरोपियों के खिलाफ गंभीर आरोप लगे हैं. जांच अभी शुरुआती चरण में है और अगर इस समय अग्रिम जमानत दे दी जाती है तो इससे जांच पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा. अदालत ने कहा कि पहली नजर में लगता है कि अर्जी देने वालों ने दरिंदों की तरह व्यवहार किया. उन्होंने पीड़िता के हालात का नाजायज फायदा उठाया. इससे पहले , अदालत ने पुलिस को महिला के पति द्वारा दर्ज करायी गयी यौन उत्पीड़न की शिकायत एवं मामले से संबंधित अन्य दस्तावेज पेश करने का आदेश दिया था.

यह भी पढ़ेंः एक के बाद एक ब्लैकमेल कर महिला का यौन उत्पीड़न कर रहे थे पांच पादरी, लेकिन पुलिस ने दर्ज नहीं किया केस!

जमानत याचिकाओं में पादरियों ने महिला का यौन उत्पीड़न करने के आरोपों से इंकार किया था. अपराध शाखा ने महिला का बयान दर्ज करने के बाद इन पादरियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है. इन पादरियों का आरोप है कि राजनीतिक लाभ लेने के लिये कुछ निहित स्वार्थों द्वारा दबाव में उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. इस महिला के पति ने पिछले महीने पांच पादरियों पर आरोप लगाया था कि उन्होंने उसकी पत्नी को ब्लैकमेल करके उसका यौन उत्पीड़न किया. ठोस सबूत के अभाव में पांचवें पादरी का नाम प्राथमिकी में शामिल नहीं किया गया है. 

(इनपुट भाषा)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close