2019 के लिए BJP की प्लानिंग, बूथ पर ही दूसरे दलों में ऐसे लगाएगी सेंध

पार्टी कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए गए हैं कि वे योजनाओं के लाभान्वित लोगों की लिस्ट तैयार करें. साथ ही जनसंपर्क अभियान में तेजी लाएं.

2019 के लिए BJP की प्लानिंग, बूथ पर ही दूसरे दलों में ऐसे लगाएगी सेंध
फाइल फोटो.

राजीव श्रीवास्तव, लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी इस बार लोकसभा चुनाव में दोबारा जीत हासिल करने के लिए बूथ स्तर पर ही दूसरे दलों के कार्यकर्ताओं को रिझाने की योजना पर काम कर रही है. भारतीय जनता पार्टी के थिंक टैंक ने जो बूथ स्तर की योजना बनाई है उसके तहत सभी बूथ कार्यकर्ताओं को यह कहा जा रहा है कि वो दूसरे दल के कार्यकर्ताओं से संपर्क स्थापित करें.

बीजेपी की बूथ स्तर योजना जिसको 'बूथ कार्य योजना' नाम दिया गया है. इसके अनुसार हर बूथ कार्यकर्ता को दूसरे दल के कार्यकर्ता से संपर्क स्थापित करके उसे भाजपा का सदस्य बनाने के लिए प्रेरित करने की योजना पर कार्य करना है. इससे पहले लोकसभा चुनाव 2014 और 2017 विधानसभा चुनावों में पार्टी ने ऐसे जीताऊ उम्मीदवारों पर डोरे डाले थे और चुनाव से चंद महीने पहले उन्हे पार्टी में शामिल किया था.

विदेशी FM रेडियो पर हो रहा अखिलेश यादव का गुणगान, BJP ने जताया ऐतराज

इस स्ट्रेटजी के तहत पार्टी में बीएसपी के दिग्गज नेता जैसे स्वामी प्रसाद मौर्य और बृजेश पाठक को पार्टी न केवल सदस्य बनाया था बल्कि उन्हे विधानसभा चुनावों में टिकट भी दिया था. इसी तरह उत्तर प्रदेश कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष रहीं रीता बहुगुणा जोशी को भी बीजेपी में शामिल किया गया था और मैदान में उतारार गया था. वर्तमान में तीनों योगी सरकार में कैबिनेट स्तर के मंत्री हैं.

ऐसे नामों की लिस्ट बहुत लंबी है. इसी तरह कई अन्य दलों के बड़े नेताओं को भी बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के पहले भी न सिर्फ सदस्य बनाया था बल्कि टिकट दिया था. इस लिस्ट में कांग्रेस के वारिष्ठ नेता जगदंबिका पाल का नाम शामिल है. मोदी लहर में बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में 80 में से 71 सीटों पर जीत दर्ज की थी. लेकिन, बदले हुए परिस्थिति में पार्टी ने जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं को मजबूत करने की रणनीति पर काम कर रही है.

महागठबंधन होना चाहिए, सरकार कांग्रेस के बाहरी समर्थन से भी बन सकती है : नायडू

बूथ लेवल कार्यकर्ताओं से कहा जा रहा है कि वे जनता के बीच जाएं और उनसे संपर्क करें. दूसरे पार्टी के कार्यकर्ताओं को अपने पाले में करने की कोशिश करें. इसके अलावा, मंदिर, मठ और आश्रम जाकर भी संपर्क स्थापित करें. इसके अलावा सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों की लिस्ट भी तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं.

 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close