भाजपा असम में विदेशी घुसपैठियों के नाम पर हौव्वा खड़ा कर रही: हरीश रावत

असम में अब एनआरसी पर भाजपा के खिलाफ आक्रामक होगी कांग्रेस, पार्टी को मजबूत बनाने की तैयारी

भाजपा असम में विदेशी घुसपैठियों के नाम पर हौव्वा खड़ा कर रही: हरीश रावत
हरीश रावत (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: कांग्रेस महासचिव और असम प्रभारी हरीश रावत ने भाजपा पर विदेशी घुसपैठियों के नाम पर हौव्वा खड़ा करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि अब राज्य में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के मुद्दे पर उनकी पार्टी सत्तारूढ़ दल के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाएगी. रावत ने यह भी कहा कि एनआरसी के आखिरी मसौदे में जिन 40 लाख लोगों के नाम छूटे हैं, उनमें बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जो भारत के वास्तविक नागरिक हैं और कांग्रेस इनकी मदद करेगी.

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि एनआरसी को लेकर हमने एक संतुलित नीति रखी है. एनआरसी की प्रक्रिया कांग्रेस ने आरंभ की और हम इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में मददगार हैं. इसके साथ ही हमें उन सभी वास्तविक नागरिकों की मदद करनी है जो किसी कारण से एनआरसी की प्रक्रिया से छूट गए हैं. 

इसे भी पढ़ें: जब वाजपेयी को हराने के लिए कांग्रेस ने करवाया था इस फिल्म स्टार से प्रचार

उन्होंने कहा, भाजपा एनआरसी और घुसपैठिये शब्द का उपयोग भले ही ध्रुवीकरण के लिए कर रही हो, लेकिन असम में एनआरसी का फायदा कांग्रेस को होने वाला है. भाजपा ने यह हौव्वा खड़ा किया कि राज्य में करोड़ों विदेशी घुसपैठिए हैं. लेकिन अब लोग देख रहे हैं कि एनआरसी के आखिरी मसौदे से 40 लाख लोग बाहर हैं और इनमें भी बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो भारत के वास्तविक नागरिक हैं. 

रावत ने कहा, एनआरसी से बाहर लोगों में करीब आधे हिंदू हैं और इतने ही मुसलमान भी हैं. बंगाली भी और गैर बंगाली भी हैं. भाषायी अल्पसंख्यक भी हैं. उत्तर प्रदेश, बिहार और दूसरे प्रांतों के लोग भी इसमें हैं. असम की जमीनी वास्तविकता भाजपा के दुष्प्रचार से बहुत दूर है. रावत ने कहा, असम में हम इस मामले पर आक्रामक होने जा रहे हैं. अब हम यह सवाल करेंगे कि एनआरसी और घुसपैठियों पर भाजपा ने सिवाय नारेबाजी के क्या किया? 

इसे भी पढ़ें: भारत में एनआरसी की जरूरत क्यों पड़ी?

उन्होंने कहा, अब तो राज्य में सभी लोग पूछ रहे हैं कि जब करोड़ों लोग थे ही नहीं तो भाजपा ने ऐसी बात कैसे कर दी. घुसपैठिए के नाम पर जो भाजपा के साथ थे वो भी सवाल पूछ रहे हैं. अब असम में स्थिति कांग्रेस की तरफ झुक रही है. रावत ने कहा, भाजपा सिर्फ दुष्प्रचार करती है. आंकड़े ही दुष्प्रचार की काट हैं. कांग्रेस के 10 साल के शासनकाल में 85 हजार घुसपैठिये देश से बाहर भेजे गए, जबकि भाजपा के शासनकाल में सिर्फ 1200 विदेशियों को बाहर भेजा गया. ये आंकड़े सरकारी हैं. 

उन्होंने कांग्रेस छोड़कर गए हेमंत विश्व शर्मा के संदर्भ में दावा किया कि अब वह भाजपा के लिए बोझ बन गए हैं. कांग्रेस महासचिव ने कहा, हेमंत विश्व शर्मा जब गए तो बड़ी-बड़ी बातें कीं. अब वह असम में भाजपा के लिए बोझ बन गए हैं. सर्वानंद सोनोवाल ने उनसे दूरी बना ली है. वहां एक सत्ता संघर्ष चल रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि फिलहाल असम में वह पार्टी के संगठन को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close