बीएचयू के मेस में खाने को लेकर छात्र गुटों में भिड़ंत, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात

अय्यर छात्रावास के छात्रों का आरोप था कि बिड़ला हॉस्टल के छात्र हमेशा अय्यर हॉस्टल के मेस में जबरन खाना खाने जाते हैं.

बीएचयू के मेस में खाने को लेकर छात्र गुटों में भिड़ंत, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात
आक्रोशित छात्र विरोध प्रदर्शन करने लगे और सड़क पर खड़ी गाड़ियों में तोड़-फोड़ की.(फाइल फोटो)

वाराणसी: काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में बुधवार की सुबह बिड़ला और अय्यर छात्रावास के छात्रों में मेस के खाने को लेकर उपजा विवाद दोपहर तक इतना बढ़ गया कि पुलिस को छात्रों के ऊपर आंसू गैस के गोले दागने पड़े. अय्यर छात्रावास के छात्रों का आरोप था कि बिड़ला हॉस्टल के छात्र हमेशा अय्यर हॉस्टल के मेस में जबरन खाना खाने जाते हैं. इसी बात पर सुबह विवाद बढ़ गया और छात्र आपस में मारपीट करने लगे. इस घटना से आक्रोशित छात्र विरोध प्रदर्शन करने लगे और सड़क पर खड़ी गाड़ियों में तोड़-फोड़ की. इसी बीच कुछ छात्र धरने पर बैठ गए. बवाल की सूचना मिलते ही मौके पर बीएचयू की चीफ प्राक्टर और एसपी सिटी पहुंचे.

उपद्रवी छात्र हॉस्टल की छत से कर रहे थे पथराव 
अधिकारियों ने छात्रों को समझा बुझाकर धरना ख़त्म कराने की पुरजोर कोशिश की, लेकिन छात्र नहीं माने. छात्रों ने मांगे पूरी होने तक धरना जारी रहने की चेतावनी दी. सुरक्षा के मद्देनजर हॉस्टल के आसपास भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया था. इस दौरान बिड़ला हॉस्टल के बाहर तैनात पुलिसकर्मियों पर दोपहर दो बजे के करीब उपद्रवी छात्रों ने पथराव कर दिया. एकाएक पथराव के कारण हॉस्टल के बाहर तैनात पुलिसकर्मी इधर-उधर भागने लगे. मामले की सूचना पाकर एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे, लेकिन उपद्रवी छात्र हॉस्टल की छत पर से लगातार पथराव कर रहे थे. 

पुलिस को छोड़ने पड़े आंसू गैस के गोले
स्थिति को देखते हुए मौके पर अतिरिक्त पुलिस फोर्स बुलाई गई है. स्थिति को नियंत्रण करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. फिलहाल मौके पर फोर्स डटी हुई है. बीएचयू की प्रॉक्टर प्रो. रायना सिंह ने कहा की घायल छात्रों को ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है. प्रॉक्टोरियल बोर्ड के अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं. प्रॉक्टर ने कहा कि इस घटना में शामिल कुछ छात्रों की पहचान भी की गई है और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी.

(इनपुट भाषा से)

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close