सही मायने में आंबेडकरवादी सोच की हैं मायावती, तो दें BJP का साथ: रामदास अठावले

लखनऊ पहुंचे केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि अगर हमारी पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव में 3 से 4 सीटें भी देती है, तो यूपी में बीजेपी की सीटें बढ़ेगी. 

सही मायने में आंबेडकरवादी सोच की हैं मायावती, तो दें BJP का साथ: रामदास अठावले
उन्होंने कहा की सरकार जातिवाद खत्म कर रही है और बसपा प्रमुख मायावती जातिवाद बढ़ा रही है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/लखनऊ: केंद्रीय मंत्री और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के अध्यक्ष रामदास अठावले का कहना है कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में अगर बीजेपी-आरपीआई के साथ यूपी में चुनाव लड़ती है, तो यूपी में सीटे पिछले चुनाव से ज्यादा आएंगी. लखनऊ पहुंचे केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि अगर हमारी पार्टी 2019 के लोकसभा चुनाव में 3 से 4 सीटें भी देती है, तो यूपी में बीजेपी की सीटें बढ़ेगी. उन्होंने यूपी में हुए उपचुनावों में बीजेपी इसलिए हारी क्योंकि लोगों को एक साल के चुनाव में इंटरेस्ट नहीं था. 

सवर्णों के भारत बंद पर मायावती के बयान पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोग जान बूझकर सरकार के खिलाफ आवाज उठाने के लिए ये विरोध करवाया है. उन्होंने अपनी बात रखते हुए कहा कि बीजेपी शासित राज्यों में ये प्रदर्शन इसलिए हुआ क्योंकि ये बंद सरकार को बदनाम करने के लिए विरोधी पार्टियों ने करवाया. सरकार जातिवाद खत्म कर रही है और बसपा प्रमुख मायावती जातिवाद बढ़ा रही है. 

ये भी पढ़ें: इस वरिष्‍ठ दलित नेता ने कहा, 'गरीब सवर्णों को मिले 25 प्रतिशत आरक्षण'

मायावती पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सही मायने में अगर वो आंबेडकरवादी है, तो उन्हें बीजेपी के साथ आना चाहिए, सपा के साथ उसको फयादा नहीं मिलेगा. रामदास अठावले कहा कि अगर बीएसपी यूपी में बीजेपी का साथ देती है, तो बसपा के कई मजबूत कैंडिडेट्स हमारे साथ आ सकते हैं. 

उन्होंने कहा कि सवर्णों को समाज में एकता बढ़ाने के लिए आरक्षण देने के लिए सभी पार्टियों को आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि गरीब सवर्णों को 25 प्रतिशत आरक्षण का बिल पारित हो जाए तो सभी का भला हो जाएगा. सवर्ण सोचते हैं कि दलितों को आरक्षण मिलता है, मगर उन्हें नहीं दिया जाता. सरकार अगर आरक्षण के दायरे को 75 प्रतिशत तक बढ़ाये तो मुझे लगता है कि सभी को आरक्षण का लाभ मिल जाएगा. सभी दलों को इसके लिये सरकार का साथ देना चाहिए. 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close