इलाहाबाद: गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में बदमाशों का कहर, यात्रियों के साथ की मारपीट और लूट

गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में आधी रात को उस वक्त बदमाशों ने धावा बोला जब यात्री सो रहे थे.

इलाहाबाद: गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में बदमाशों का कहर, यात्रियों के साथ की मारपीट और लूट
पीड़ितों ने जीआरपी में मामला दर्ज कर दिया है.

नई दिल्ली/इलाहाबाद: चेन्नई से छपरा जाने वाली गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में बदमाशों ने जमकर लूटपाट की. लूट का विरोध करने वाले यात्रियों को मारपीट कर लहूलुहान भी कर दिया गया है. वारदात इलाहाबाद के नजदीक मानिकपुर और नैनी के बीच पनाही इलाके के पास हुई.

जानकारी के मुताबिक, गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में आधी रात को उस वक्त बदमाशों ने धावा बोला जब यात्री सो रहे थे. हथियारबंद बदमाशों ने लूटपाट की और महिलाओं को आपना निशाना बनाया. बदमाशों ने महिला यात्रियों के कान और नाक के गहने तक खींचकर छीने और भाग खड़े हुए. पीड़ितों ने जीआरपी में मामला दर्ज कर दिया है और पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई है. 

In Ganga-Kaveri Express crooks beat up and robbed passengers

यात्रियों ने बताया कि पनाही स्टेशन के पास ही बदमाशों ने चेन पुलिंग कर ट्रेन रोक ली और उतर कर भाग निकले. सोमवार (03 सितंबर) की सुबह ट्रेन के इलाहाबाद पहुंचने पर अलर्ट जारी हुआ और घायल यात्रियों को मेडिकल हेल्प दी जा सकी. पीड़ित यात्रियों ने बताया बदमाश अपने चेहरे पर नकाब पहने हुए हाथों में चाकू और असलहे लिए थे और महिलाओ के जेवरात लूट रहे थे. उन्होंने बताया कि जिसने भी लूट का विरोध किया, उनको बदमाशों ने चाकुओं से घायल कर दिया. 

बदमाशों के भागते ही ट्रेन में कोहराम मच गया. लोग चीखने-चिल्लाने लगे आवाज सुनकर दूसरे कोच से भी लोग बाहर निकले और डकैती की खबर फैलते ही हड़कंप मच गया. घटना की जानकारी रेलवे कंट्रोल रूम को भेजी गई लेकिन, मौके पर मेडिकल सुविधा उपलब्ध नहीं थी. इसलिए ट्रेन को आगे बढ़ाया गया और सुबह 5:30 बजे जब ट्रेन इलाहाबाद पहुंची, तो यात्रियों को मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराई गई. इलाहाबाद जंक्शन पर लगभग एक घंटे तक ट्रेन रुकने के बाद सुबह 6.26 बजे रवाना की गई. घटना के बाद रेलवे पुलिस ने अलग-अलग FIR दर्ज की है. जांच पड़ताल के लिए स्थानीय पुलिस की भी मदद मांगी गई है.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close