मायावती पर अभद्र कमेंट करने के चलते पार्टी से निकाले गए थे दयाशंकर सिंह, बीजेपी में फिर से बने उपाध्यक्ष

बीएसपी मुखिया मायावती पर अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में 2016 में बीजेपी से निकाले गए पार्टी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह को फिर से प्रदेश इकाई का उपाध्यक्ष बनाया गया है. 

Shriram Sharma श्रीराम शर्मा | Updated: Feb 10, 2018, 09:41 AM IST
मायावती पर अभद्र कमेंट करने के चलते पार्टी से निकाले गए थे दयाशंकर सिंह, बीजेपी में फिर से बने उपाध्यक्ष
बसपा प्रमुख पर अभद्र टिप्पणी को लेकर दयाशंकर सिंह को पार्टी से निकाल दिया गया था (फाइल फोटो)

लखनऊ : बीएसपी मुखिया मायावती पर अभद्र टिप्पणी करने के आरोप में 2016 में बीजेपी से निकाले गए पार्टी उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह को फिर से प्रदेश इकाई का उपाध्यक्ष बनाया गया है. दयाशंकर के अलावा संजीव बालियान, कांता कर्दम, जेपीएस राठौर तथा संजीव सैनी को भी उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है. हालांकि दयाशंकर की पिछले साल मार्च में ही पार्टी में वापसी हो गई थी, लेकिन उन्हें कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई थी. 

मायावती पर की थी अभद्र टिप्पणी
बता दें कि जुलाई 2016 में यूपी भाजपा के उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह ने बीएसपी सुप्रीमो अध्यक्ष मायावती के बारे में भद्दी टिप्पणी करते हुए उन पर ज्यादा से ज्यादा धन देने वालों को पार्टी का चुनाव टिकट बेचने का आरोप लगाया था. यह मामला इतना तूल पकड़ा कि दयाशंकर को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया था. इतना ही नहीं उनके खिलाफ अनुसूचित जाति एवं जनजाति और भारतीय दंड सहिता की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था. बाद में, उनको गिरफ्तार किया गया था.

बीएसपी का प्रदर्शन
इस टिप्पणी के विरोध में 21 जुलाई को लखनऊ में बहुजन समाज पार्टी ने प्रदर्शन किया था. इस दौरान दयाशंकर सिंह की मां, पत्नी और उनकी नाबालिग बेटी के प्रति अभद्र टिप्पणियां की गई थीं. इन टिप्पणियों के खिलाफ बीएसपी के तत्कालीन नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी समेत कई नेताओं के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई थी. 

दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह बनीं बीजेपी यूपी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष

पत्नी बनी विधायक
पार्टी से निकाले जाने के बाद उनकी पत्नी स्वाति सिंह को विधानसभा चुनावों में टिकट दिया गया और वह सरोजिनी नगर सीट से विधायक चुनी गईं. स्‍वाति सिंह को उत्तर प्रदेश महिला मोर्चा का अध्‍यक्ष बनाया था. स्वाति सिंह उस समय सुर्खियों में आई थीं जब उन्होंने बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की चुनौती दी थी और कहा था कि मायावती यूपी में किसी भी सामान्य सीट से चुनाव लड़ें, वो खुद उनके खिलाफ चुनाव लड़ेगी.

पिछले साल पार्टी में वापसी
भाजपा से निकाले गये पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के तत्कालीन उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह का निष्कासन पिछेल साल ही खत्म कर दिया गया था. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि बसपा मुखिया मायावती के बारे में भद्दी टिप्पणी करने पर पार्टी से निकाले गये. सिंह का निष्कासन रद्द करके उन्हें दोबारा पार्टी में वापस ले लिया गया.