PAK सेना प्रमुख के बयान के बाद क्या राहुल गांधी सिद्धू से भी कुछ पूछना चाहेंगे: स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि उनके नेता सिद्धू पाक सेना प्रमुख से गले मिलते हैं और वे कहते हैं कि खून का हिसाब लिया जाएगा.

PAK सेना प्रमुख के बयान के बाद क्या राहुल गांधी सिद्धू से भी कुछ पूछना चाहेंगे: स्मृति ईरानी
(फोटो सभार ANI)

अमेठी: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंची केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने पाकिस्तान सेना प्रमुख जावेद कमर बाजवा के हालिया बयान को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साधा. ईरानी ने कहा कि कांग्रेसी नेता नवजोत सिंह सिंद्धू नई सरकार के गठन पर पाकिस्तान जाते हैं और वहां के सेना प्रमुख से गले मिलते हैं. इस घटना पर कांग्रेस के अध्यक्ष चुप रहते हैं. एक तरफ कांग्रेसी नेता पाकिस्तानी सेना प्रमुख के गले मिल रहे हैं और दूसरी तरफ पाकिस्तानी सेना प्रमुख भारत को धमकी दे रहा है.

बता दें, पाकिस्तान सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने एकबार फिर से कश्मीर राग अलापा है. बाजवा ने कहा कि कश्मीर की आजादी की लड़ाई में हम कश्मीर के साथ हैं. वहां के लोगों की कुर्बानी को हम सलाम करते हैं. सरहद पर बह रहे लहू के कतरे-कतरे का हिसाब लिया जाएगा. भारत के साथ 1965 के युद्ध की 53वीं वर्षगांठ के मौके पर शुक्रवार को पाकिस्तान में आयोजित रक्षा दिवस कार्यक्रम में पाक सैन्‍य प्रमुख ने ये कड़वे बोल बोले. 

 

 

राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि इन मामलों पर उनकी चुप्पी समझ में आती है. उनकी पार्टी में एक तरफ नवजोत सिंह सिद्धू हैं और दूसरी तरफ मणि शंकर अय्यर जैसे नेता हैं. केंद्रीय कपड़ा मंत्री अमेठी से पहले रायबरेली पहुंची. यहां उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सालों से इस सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी जीतते आ रहे हैं. लेकिन, यहां के लोगों की समस्याओं के लिए वे कभी खड़े नहीं हुए हैं. यहां के लोगों को अब उनसे कोई उम्मीद नहीं रह गई है. जब उनके संसदीय क्षेत्र के लोगों को उनसे कोई उम्मीदें नहीं हैं तो देश के लोगों को उनसे क्या उम्मीदें हो सकती हैं?

 

 

रायबरेली में स्मृति ईरानी ने लालगंज मॉडर्न रेल कोच फैक्ट्री का जायजा लिया. इस दौरान मीडिया को उनसे दूर रखा गया, जिसकी वजह से मीडियाकर्मियों ने उनका विरोध भी किया. रेल कोच फैक्ट्री के निरीक्षण के दौरान उन्होंने स्मार्ट कोच देखकर खुशी जाहिर की. उन्होंने फैक्ट्री के जनरल मैनेजर (GM) से कहा कि वे इस फैक्ट्री के सहयोगी इकाइयों की स्थापना करें. इससे ज्यादा लोगों को रोजगार का अवसर मिलेगा. इस कारखाने में मौजूद तकनीकी को देखकर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अगर सबकुछ सही रहा तो भविष्य में यहां पर बुलेट ट्रेन के कोच भी बनाए जा सकते हैं.

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close